Trending Nowशहर एवं राज्य

SAHARA CASE : सुब्रत राय के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी, कोर्ट ने कहा मनमानी नही चलेगी, जानें सहारा केश में ताजा अपडेट

Arrest warrant issued against Subrata Rai, court said arbitrariness will not work, know the latest update in Sahara Kesh

डेस्क/पटना। पटना हाई कोर्ट में आज भी सहारा इंडिया के मालिक सुब्रत राय पेश नहीं हुए. अब कोर्ट की तरफ से सुब्रत राय के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया गया है. साथ ही, पटना हाईकोर्ट ने बिहार और उत्तरप्रदेश के डीजीपी तथा दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को सुब्रत राय को गिरफ्तार करने का आदेश दिया है. अदालत ने आज सुबह 10:30 बजे सुब्रत राय सहारा शरीर आने के लिए कहा था. कोर्ट ने यह भी कहा था कि अगर वह नहीं आए तो फिर उनकी गिरफ्तारी का वारंट जारी किया जाएगा लेकिन आज भी वो नहीं पहुंचे. अब इस मामले में 16 मई को फिर से सुनवाई होगी.

कोर्ट के आदेश के बावजूद सहारा के संस्थापक सुब्रत राय के हाजिर नहीं होने पर पटना हाईकोर्ट ने कड़ी नाराजगी व्यक्त की. कोर्ट ने इस मामलें पर सुनवाई करते हुए बिहार और उत्तर प्रदेश के डीजीपी समेत दिल्ली के पुलिस कमिश्नर को हर हाल में सहारा प्रमुख सुब्रतो राय को 16 मई को साढ़े दस सुबह में कोर्ट में प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है. जस्टिस संदीप कुमार ने सहारा इंडिया के विभिन्न स्कीमों में ग्राहकों द्वारा जमा कराये गए पैसों के भुगतान को लेकर दायर चार हजार से ज्यादा हस्तक्षेप याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए यह निर्देश दिया.

कोर्ट के आदेश का सम्मान नहीं करते सुब्रत राय –

कोर्ट ने कहा कि न्यायालय के आदेश के बावजूद सुब्रत राय का कोर्ट में उपस्थित नहीं होना यह प्रमाणित करता है कि वे कोर्ट के आदेश का सम्मान नहीं करते हैं. कोर्ट ने कहा कि कोई भी कानून से ऊपर नहीं है. 12 मई 2022 को हुई सुनवाई में कोर्ट ने सुब्रत राय को हर हाल में 13 मई को 10:30 बजे कोर्ट में उपस्थित होकर यह बताने का निर्देश दिया था कि बिहार की गरीब जनता की गाढ़ी कमाई का पैसा, जो निवेशकों द्वारा सहारा के विभिन्न कंपनियों में जमा किये गए हैं, उसका भुगतान इन कंपनियों द्वारा कैसे और कब तक किया जाएगा. इस मामले पर अगली सुनवाई 16 मई, 2022 को की जाएगी.

सुब्रत राय को पेश होने का दिया था निर्देश – 

सहारा ग्रुप ऑफ कंपनीज के संस्थापक सुब्रत राय ने पटना हाईकोर्ट के 27 अप्रैल 2022 के उनके कोर्ट में उपस्थित होने के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर चैलेंज किया गया था. जिसके बाद अदालत ने उन्हें 13 मई को साढ़े दस बजे सुबह हाजिर होने का निर्देश दिया था. पिछली सुनवाई में कोर्ट ने सहारा कंपनी से पूछा था कि बिहार की गरीब जनता ने गाढ़ी कमाई का जो पैसा उसके विभिन्न स्कीमों में निवेशकों ने जमा किया है, उसे उन्हें किस तरह से जल्द से जल्द लौटाया जाएगा. सुनवाई के दौरान सहारा का पक्ष वरीय अधिवक्ता उमेश प्रसाद सिंह ने रखा था.

पहले 11 मई को होना था पेश – 

इससे पहले की सुनवाई में कोर्ट ने कहा था यदि 27 अप्रैल तक सहारा कंपनी द्वारा स्पष्ट रूप से कोर्ट को इस बात की जानकारी नही दीं जाती है, तो हाईकोर्ट इस मामले में उचित आदेश पारित करेगा, ताकि निवेशकों का पैसा उन्हें लौटाया जा सके. मालूम हो कि 27 अप्रैल को पटना हाईकोर्ट ने सहारा इंडिया के विभिन्न स्कीमों में उपभोक्ताओं द्वारा जमा किये पैसे के भुगतान को लेकर सहारा ग्रुप ऑफ कंपनीज के संस्थापक सुब्रत राय को 11 मई को कोर्ट में हाजिर होने के निर्देश दिया था.

सुब्रत राय बुधवार को ही पटना पहुंच गए थे लेकिन किसी वजह से पटना हाईकोर्ट में इस मामले को लेकर सुनवाई नहीं हो सकी थी. 27 अप्रैल को पटना हाईकोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान सहारा का पक्ष रखने वाले वरीय अधिवक्ता उमेश प्रसाद सिंह ने कोर्ट के यह बताया था कि कंपनी के ग्राहकों का पैसा वापस करने के लिए कई विकल्प तैयार किए हैं. लेकिन कोर्ट ने दलील को नामंजूर कर दिया था और सुब्रत राय को कोर्ट में पेश होने का निर्देश दिया था.

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: