Trending Nowखेल खबर

क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर का जन्मदिन, पढ़े जब खून से लथपथ होने के बाद भी क्रीज पर दिखे

Sachin Tendulkar Birthday: दुनिया के महान बल्लेबाजों में से एक सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) आज यानि के 24 अप्रैल को 49 साल (Sachin Tendulkar Birthday) के हो गए। ‘क्रिकेट के भगवान’ का दर्जा पा चुके सचिन का आज ही के दिन 24 अप्रैल 1973 को मुंबई में जन्म हुआ था। क्रिकेट पिच पर 24 साल तक राज करने वाले सचिन के नाम आज भी कई रिकॉर्ड कायम है। 1989 में पाकिस्तान के खिलाफ अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत करने वाले सचिन ने देश में क्रिकेट को नए मुकाम पर पहुंचाने में काफी मदद की। उन्हें खेलता देखकर एक पीढ़ी ने उनसे प्रेरणा हासिल की। मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के जन्मदिन पर आज आपको उनसे जुड़ी कुछ खास बातें बताते हैं।1989 में पाकिस्तान के खिलाफ 16 साल की उम्र में ही अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत की थी। उस समय दुनिया में वसीम अकरम और वकार यूनिस जैसे पाकिस्तानी गेंदबाजों का बोलबाला हुआ करता था। उस सीरीज के चौथे टेस्ट मैच में वकार की एक गेंद सचिन के चेहरे पर जा लगी। खून से लथपथ होने के बाद सचिन को मेडिकल ट्रीटमेंट दिया गया। लोगों को लगने लगा कि अब यह बल्लेबाजी नहीं कर पाएगा। लेकिन तभी एक आवाज आई कि ‘मैं खेलेगा’। सचिन के इस जज्बे को देखकर उनके साथ बल्लेबाजी कर रहे नवजोत सिद्धू भी काफी हैरानी में पड़ गए।सचिन ने 12 साल की उम्र में ही अपने स्कूल की ओर से खेलते हुए शतक ठोक दिया था। उन्होंने ये शतक अंडर-17 हैरिस शील्ड में बनाया था। इसके दो साल बाद ही उन्होंने अपने दोस्त और पूर्व क्रिकेटर विनोद कांबली के साथ मिलकर 664 रन की रिकॉर्ड साझेदारी की थी। सचिन यहीं नहीं रुके और उन्होंने 15 साल की उम्र में मुंबई के लिए फर्स्ट क्लास डेब्यू करने के बाद रणजी ट्रॉफी, दिलीप ट्रॉफी और ईरानी ट्रॉफी के डेब्यू मैच में शतक जमाया था। अगले साल ही उन्होंने अपने इंटरनेशनल क्रिकेट करियर की शुरुआत की। डेब्यू के एक साल बाद ही उन्होंने इंग्लैंड के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर अपना पहला टेस्ट शतक लगाया था।वाली वजह सचिन ने 2000 में शतकों का अपना अर्धशतक पूरा किया था और वह ऐसा करने वाले दुनिया के पहले क्रिकेट बने थे। इसके आठ साल बाद ही वह टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बने थे और इस मामले में उन्होंने वेस्टइंडीज के दिग्गज ब्रायन लारा को पीछे छोड़ा था। अपने करियर के अंतिम पड़ाव पर आकर सचिन मेंस क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज बने। इसके अलावा वह इंटरनेशनल क्रिकेट में 100 शतक लगाने वाले अभी भी एकमात्र क्रिकेटर हैं। वह 2011 में वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम का अहम हिस्सा थे। विराट कोहली के पास सचिन के इस रिकॉर्ड तक पहुंचने का मौका है, लेकिन विराट इस समय करियर के अपने सबसे खराब दौर से गुजर रहे हैं।लोगों ने पार कर दी सारी हदें क्रिकेट से रिटायरमेंट लेने के बाद सचिन सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। कुछ समय पहले ही उन्होंने अपनी फेवरेट डिश का खुलासा किया था। एक वीडियो में सचिन फेवरेट मिसल पाव खाते दिख रहे थे। उन्होंने वीडियो के साथ कैप्शन में लिखा था कि चाहे रविवार हो या सोमवार, मैं किसी भी मिसल पाव लूंगा। सचिन ने भारत के लिए 200 टेस्ट मैच, 463 वनडे और एकमात्र टी20 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने क्रमश: 15921, 18426 और 10 रन बनाए हैं। सचिन के नाम सचिन के नाम टेस्ट में 51 और वनडे में 49 शतक दर्ज है। उनके नाम सर्वाधिक इंटरनेशनल रन बनाने का रिकॉर्ड आज भी कायम है। बल्लेबाजी के अलावा गेंदबाजी में भी सचिन ने नाम कई विकेट दर्ज हैं। टेस्ट में उनके नाम 46, वनडे में 154 और टी20 इंटरनेशनल मैच में भी एक विकेट शामिल हैं। वह सबसे ज्यादा टेस्ट मैच खेलने वाले और सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। सचिन ने 2013 में क्रिकेट के सभी फॉर्मेट को अलविदा कह दिया था और उसी साल उन्हें देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ (Bharat Ratna) से सम्मानित किया गया था। वह इस सम्मान को पाने वाले अब तक पहले और एकमात्र भारतीय खिलाड़ी हैं। इसके अलावा वह उन चार क्रिकेटरों में से एक हैं, जिन्हें राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड (Rajiv Gandhi Khel Ratna) से सम्मानित किया जा चुका है। सचिन को यह सम्मान 1997-98 में मिला था। उनके अलावा एमएस धोनी (2007-08), विराट कोहली (2018) और रोहित शर्मा (2020) को यह सम्मान मिल चुका है। सचिन इस समय आईपीएल में पांच बार खिताब जीतने वाली मुंबई इंडियंस टीम के मेंटॉर हैं।

 

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: