Trending Nowशहर एवं राज्य

एम्बुलेंस में गांजा तस्करी करते दो गिरफ्तार

गरियाबंद। एम्बुलेश में गांजा तस्करी का सनसनीखेज मामला सामने आया है। मामले में पुलिस ने 30 किलो गांजा के साथ दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों में से एक ओडिसा का रहने वाला है। मामले को रफा-दफा करने के लिए पुलिस पर दबाव बनाने की बात भी सामने आ रही है। एम्बुलेंश रायपुर के एक प्रतिष्ठित अस्पताल की बताई जा रही है।

राजिम पुलिस की कार्रवाई

मामला राजिम थाना से जुड़ा है। राजिम पुलिस ने एम्बुलेंश को रोककर तलाशी ली और 30.5 किलो गांजा जब्त किया है। पुलिस ने मामले में ड्राइवर सहित एक अन्य आरोपी को गिरफ्तार किया है। फिलहाल पुलिस आरोपी के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज न्यायलय में पेश करने की तैयारी में जुटी है।

ऐसे पकड़ में आया मामला

मामले में अधिक जानकारी देते हुए राजिम थाना प्रभारी संतोष भुआर्य ने बताया कि एम्बुलेश की रफ्तार और उसमें सवार लोगो की गतिविधियां संदिग्ध नजर आ रही थी। जिस पर पेट्रोलिंग पार्टी ने शक के आधार पर एम्बुलेंश को रुकवाकर पूछताछ की। पूछताछ के दौरान जब गाड़ी की तलाशी ली गयी तो उसमें से गांजा बरामद हुआ।

मुख्य आरोपी ओडिसा का

थाना प्रभारी ने बताया कि एम्बुलेश में गांजा 7 पैकेट बनाकर रखा हुआ था। गांजा ओडिसा प्रांत के नवरंगपुर निवासी सोमनाथ गोंड का है। जो खुद एम्बुलेंश में मौजूद था। पुलिस ने मामले में वाहन चालक की संलिप्ता पाए जाने पर दोनों को गिरफ्तार कर लिया है। इसके अलावा एम्बुलेंश में दो अन्य लोग ओर मौजूद थे जो अपने परिचित मरीजो को देखने अस्पताल जा रहे थे। मामले में उनकी संलिप्तता नही पाए जाने पर पुलिस ने उन्हें छोड़ दिया।

मामले को रफा दफा करने पुलिस पर दबाव

गांजा तस्करी में जो एम्बुलेंश जब्त हुई है वह रायपुर के एक प्रतिष्ठित अस्पताल बालाजी हॉस्पिटल मोवा की बताई जा रही है। जैसे ही पुलिस ने गांजा सहित एम्बुलेंश और आरोपियों को अपने कब्जे में लिया उसके कुछ देर बाद ही पुलिस के फोन की घण्टियाँ बजनी शुरू हो गयी। सुनने में आया है कि मामले को रफा दफा करने के लिए पुलिस पर दबाव बनाने की कोशिश की गईं। मगर पुलिस ने ऐसे लोगो की एक नही सुनी और मामले में उचित कार्रवाई शुरू कर दी।

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: