Trending Nowशहर एवं राज्य

TEACHER RECRUITMENT SCAM UPDATE : पार्थ और अर्पिता को अभी ED की कस्टडी में होगा रहना, नहीं मिली राहत

Parth and Arpita will be in ED custody for now, no relief

डेस्क। टीचर भर्ती घोटाले में फंसे पश्चिम बंगाल के कैबिनेट मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी अर्पिता मुखर्जी को सोमवार को PMLA कोर्ट में पेश किया गया. कोर्ट ने सुनवाई के बाद पार्थ और अर्पिता को 3 अगस्त तक ईडी की कस्टडी में भेज दिया है. ईडी का ये भी कहना है कि अर्पिता ने पूछताछ के दौरान स्वीकार किया है कि कैश पार्थ का है.

कोर्ट में ईडी का कहना था कि ये सीरियस स्कैम है. इन दोनों से पूछताछ की जानी जरूरी है. इस केस में अभी करीब 22 करोड़ बरामद हो गए हैं, जबकि 100 करोड़ से ज्यादा की रिकवरी और होनी है.

ईडी ने कोर्ट में अर्पिता और पार्थ चटर्जी दोनों की 14 दिन की हिरासत मांगी थी. ईडी ने कहा था कि प्रारंभिक जांच से पता चला है कि पार्थ चटर्जी की ‘करीबी सहयोगी’ अर्पिता मुखर्जी ‘वित्तीय गड़बड़ी’ के लिए करीब 12 फर्जी कंपनियां चला रही थीं.

कोर्ट में ASG ने कहा कि ये एक गंभीर घोटाला है. हम ईडी की फुल कस्टडी की मांग करते हैं. उन्होंने कहा कि इस घोटाले में अपात्र अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र बांटे गए हैं. इन लोगों ने रिश्वत दी है. ED ने दो जगहों पर तलाशी ली है. एक पार्थ चटर्जी और दूसरी अर्पिता चटर्जी के ठिकानों पर. इस दौरान ज्वाइंट सेल डीड भी मिली है. सेल डीड में संयुक्त नामों का भी जिक्र है. वहीं, अर्पिता के वकील नीलाद्री भट्टाचार्जी ने बताया कि उन्होंने आज जमानत याचिका दायर नहीं की है. सिर्फ शॉट टर्म PC की मांग की है.

जांच में सहयोग नहीं कर रहे पार्थ –

ASG ने आगे कहा कि इससे पता चलता है कि दोनों संयुक्त रूप से संपत्ति खरीद रहे थे. हमने अर्पिता के फ्लैट के दस्तावेज पार्थ के घर से बरामद किए हैं. इसका जब्ती सूची में उल्लेख किया गया है. पार्थ चटर्जी का अर्पिता मुखर्जी से नियमित संपर्क है. पार्थ ने अवैध रूप से पंचनामा फाड़ दिया. वे जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं. इतना ही नहीं, पार्थ लगातार मोबाइल फोन के जरिए अर्पिता के संपर्क में था. ये संयुक्त नामों से खरीदारी कर रहे थे. पार्थ ने अपनी गिरफ्तारी के कागजों पर हस्ताक्षर करने से भी इनकार कर दिया था.

21 करोड़ कैश को अर्पिता की कंपनियों में लगाना था –

ईडी ने कहा कि पार्थ चटर्जी और अर्पिता चटर्जी की संयुक्त संपत्ति से संबंधित दस्तावेज मिले हैं. इस संपत्ति को पार्थ ने 2012 में खरीदा था. अर्पिता ने पूछताछ के दौरान यह भी स्वीकार किया कि नकदी पार्थ की है. इन पैसों को अर्पिता मुखर्जी से जुड़ी कंपनियों में लगाने की योजना थी. नकद राशि भी एक-दो दिन में उसके घर से बाहर ले जाने की योजना थी. मेडिकल जांच के दौरान एम्स भुवनेश्वर ने पार्थ की तबीयत ठीक पाई है.

26 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार हुए पार्थ –

ईडी ने अर्पिता के घर से 21 करोड़ से ज्यादा का कैश बरामद किया था. अर्पिता से कई घंटे पूछताछ भी की गई थी, जिसमें वह संतोषजनक जवाब नहीं दे पाई थीं. बाद में ईडी ने मंत्री चटर्जी से 26 घंटे तक पूछताछ की और दोनों की गिरफ्तारी की थी. सोमवार को ईडी की टीम अर्पिता मुखर्जी को लेकर कोलकाता में स्थित PMLA कोर्ट पहुंची. यहां सबसे पहले अर्पिता को कोर्ट के लॉकअप में रखा गया. बाद में उनकी पेशी हुई. कोर्ट मामले में सुनवाई कर रही है.

अर्पिता के घर से बरामद हुए दस्तावेज –

इससे पहले अर्पिता की गिरफ्तारी हुई थी और उनका मेडिकल हुआ था. बाद में अर्पिता मुखर्जी को एक दिन की ईडी हिरासत में भेजा गया था. ईडी ने अर्पिता मुखर्जी के आवास से जेवर भी जब्त किए हैं. इसके अलावा, डिजिटल उपकरणों भी बरामद किए हैं.

अब पार्थ की तबीयत स्थिर: AIIM की रिपोर्ट –

वहीं, पार्थ चटर्जी की तबीयत खराब होने पर स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बाद में हाईकोर्ट ने पार्थ को ओडिशा के भुवनेश्वर में AIIMS में भर्ती कराने का आदेश दिया. इससे पहले AIIMS के डॉक्टर्स को मेडिकल रिपोर्ट देने का आदेश भी दिया था. आज AIIMS की तरफ से रिपोर्ट में कहा गया है कि पार्थ की पुरानी बीमारी की वजह से तबीयत खराब हुई है. भुवनेश्वर एम्स के निदेशक डॉ. आशुतोष विश्वास ने कहा कि उन्हें (पार्थ चटर्जी) अपनी पुरानी बीमारी के कारण परेशानी हो रही थी. हमने जांच की और रिपोर्ट हाई कोर्ट को सौंप दी है. सीने में ज्यादा दर्द नहीं हुआ. उनकी हालत स्थिर है और आज उन्हें छुट्टी दे दी जाएगी.

पार्थ चटर्जी को पहले भुवनेश्वर के AIIMS से कोलकाता लाने की तैयारी थी. हालांकि, बाद में निर्णय लिया गया कि पार्थ आज रात AIIMS में ही रुकेंगे. मंगलवार सुबह पार्थ को कोलकाता ले जाया जाएगा.

यह है पूरा मामला –

दरअसल, ईडी ने पिछले दिनों शिक्षक भर्ती घोटाले की जांच के दौरान पार्थ चटर्जी के घर पर छापा मारा था. ईडी सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान जांच एजेंसी को उनके घर पर कई पर्चियां मिली थीं. इनमें से किसी पर्ची पर अर्पिता मुखर्जी के नाम के साथ ‘वन सीआर’, ‘फोर सीआर’ लिखा था. इसी से ईडी को अर्पिता के घर में करोड़ों रुपए छिपे होने का अंदाजा लगा था. ईडी ने शुक्रवार को अर्पिता मुखर्जी के घर छापा मारा. ईडी का शक सही निकला. अर्पिता के घर से ईडी को 21 करोड़ रुपए, कई मोबाइल और कीमती चीजें बरामद हुई थीं. अर्पिता मुखर्जी पार्थ चटर्जी की करीबी बताई जा रही हैं. ईडी ने अर्पिता मुखर्जी को भी गिरफ्तार कर लिया था.

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: