Trending Nowशहर एवं राज्य

CG BIG NEWS : क्या भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के गृह जिले में हुई क्राश वोटिंग ? जानिए पूरा मामला …

CG BIG NEWS: Did the crash voting happen in the BJP state president’s home district? Know the whole matter…

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव के गृह जिले की मुंगेली नगर पालिका उपाध्यक्ष के खिलाफ प्रस्तुत अविश्वास प्रस्ताव मैं ही क्रास वोटिंग की आशंका दिखाई दे रही है। शायद इसे ही देखते हुए प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव ने मुंगेली नगर पालिका के उपाध्यक्ष के खिलाफ प्रस्तुत अविश्वास प्रस्ताव मतदान के दौरान पार्टी की ओर से श्री विजय शर्मा को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। यहां उल्लेखनीय है कि मुंगेली नगर पालिका में अल्पमत में आ चुकी भारतीय जनता पार्टी के उपाध्यक्ष श्री मोहन मल्लाह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव रखा गया है।

जिस पर 24 जनवरी को मतदान होगा। इस मतदान पर नजर रखने के लिए प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अरुण साव ने श्री विजय वर्मा को बतौर पर्यवेक्षक नियुक्त किया है। यहां यह बताना लाजमी है कि मुंगेली नगरपालिका के लिए हुए विगत चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी से 12 पार्षद चुनकर आए थे जबकि कांग्रेश के 10 पार्षद चुनाव में विजयी हुए थे। मुंगेली नगर पालिका में कुल 22 वार्ड हैं। इस चुनाव के बाद अध्यक्ष और उपाध्यक्ष दोनों ही पदों के लिए भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों की जीत हुई थी। अध्यक्ष पद के लिए संतूलाल सोनकर और उपाध्यक्ष पद के लिए मोहन मल्लाह चुनाव में विजयी घोषित किए गए थे।

लेकिन बाद में आर्थिक अनियमितता के आरोप में भाजपा के नगर पालिका अध्यक्ष संतूलाल सोनकर जेल जाने के कारण पद से बर्खास्त कर दिए गए। इसके बाद हुए अध्यक्ष के चुनाव में भाजपा पार्षदों की क्रास वोटिंग के कारण कांग्रेस के हेमेंद्र गोस्वामी चुनाव जीतने में सफल हुए थे। आश्चर्य की बात यह है कि भाजपा के 12 और कांग्रेस के 10 वोट होने के बाद भी कांग्रेश के हेमेंद्र गोस्वामी 16 वोट पाकर चुनाव जीत गए थे। इसका मतलब ही साफ है कि भारतीय बाप पार्षदों की ओर से खुलकर कहां शूटिंग की गई थी।

अब अपनी पार्टी का अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस समर्थकों ने उपाध्यक्ष पद पर मौजूद भारतीय जनता पार्टी के श्री मोहन मल्लाह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव रखा है। जिस पर 24 जनवरी को मतदान होना है। इस चुनाव में भी भाजपा पार्षदों के द्वारा जोरदार का वोटिंग की आशंका है। इसके कारण ही अपने गृह जिले की मुंगेली नगर पालिका में पार्टी की फजीहत से बचने के लिए प्रदेश अध्यक्ष के द्वारा विजय शर्मा को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है।

लेकिन भाजपा के 3 पार्षदों के कांग्रेस प्रवेश से और पूर्व अध्यक्ष संतू लाल सोनकर का वोटिंग पावर नहीं रहने तथा क्रास वोटिंग की आशंका से कांग्रेस की स्थिति काफी मजबूत है। कांग्रेश की ओर से इस समय मनुराज सोनी को मजबूत दावेदार माना जा रहा है। उनके पिता अनिल सोनी मुंगेली नगर पालिका के तीन बार अध्यक्ष आ गए हैं जबकि उनकी माता भी एक बार अध्यक्ष रह चुकी है।

Share This:
%d bloggers like this: