Trending Nowशहर एवं राज्य

MP का करोड़पति क्लर्क : 85 लाख कैश, 4 करोड़ की संपत्ति, फिर क्यों जाता था 2 व्हीलर से ऑफिस ?, EOW का खुलासा

MP’s millionaire clerk: 85 lakh cash, 4 crore property, why he used to go to office in 2 wheeler?, EOW reveals

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में EOW के छापे में बेनकाब हुए चिकित्सा शिक्षा विभाग के क्लर्क हीरो केसवानी के मामले में नई-नई जानकारियां सामने आ रही हैं.  EOW के सूत्रों से जानकारी मिली है कि हीरो केसवानी पर पिछले कुछ समय से नजर रखी जा रही थी. इस दौरान देखने मे आया कि हीरो केसवानी बैरागढ़ स्थित घर से मंत्रालय स्थित दफ्तर तक अपनी टू-व्हीलर से आता था, जिससे किसी को उसकी शानो शौकत के बारे में शक ना हो. पहली बार हीरो केसवानी तब शक के दायरे में आया जब उसने जीव सेवा संस्थान की बेशकीमती जमीन खरीदी. इस जमीन से जुड़े एक मामले पर पहले से EOW जांच कर रही है.

अब तक EOW को क्या मिला –

बता दें,  EOW को अब तक हीरो केसवानी के घर की तलाशी के दौरान बड़ी संख्या में नगद, ज्वेलरी की रसीदें, जमीनों के कागजात समेत काफी चीजे मिली हैं. हीरो केसवानी के घर से लगभग 85 लाख रूपये नगद जब्त किये जा चुके हैं. इसके अतिरिक्त करोड़ों रुपये की जमीन और मकान के दस्तावेज जब्त किए गए हैं. हीरो केसवानी के घर से जमीनों के सौदों के अनुबंध से संबंधित कई दस्तावेज बरामद किए गए. आरोपी के पास लगभग 4 करोड़ रुपये की संपत्ति होने से संबंधित दस्तावेज भी मिले.

EOW की टीम हीरो केसवानी के तीन मंजिला आलीशान भवन और इसके हर फ्लोर में आलीशान इंटीरियर और सजावट के काम को देखकर दंग रह गई. घर के हर कमरें में पेनलिंग और वुडवर्क कराया गया है.  छत पर आलीशान पेन्ट हाउस बनाया गया है.  हीरो केसवानी का बैरागढ़ स्थित यह भवन की कीमत 1.5 करोड़ रुपये आंकी जा रही है. हीरो केसवानी ने बैरागढ़ के आस-पास विकसित हो रही कॉलोनियों में मंहगें प्लॉट खरीदे हैं.  हीरो केसवानी ने अधिकांश संपत्ति  पत्नी के नाम खरीदी और कई बेची गई.

हीरो केसवानी व उसके परिजनों के बैंक खातों में भी लाखों रुपये मिले. आरोपी की पत्नी जिसकी कोई स्वतंत्र आय का साधन नहीं है. उसके बैंक खाते में लाखों रुपये नगद जमा मिले. आरोपी के घर से लाखों के सोने के जेवर रसीदें भी बरामद हुई हैं. आरोपी के घर तीन चार गाड़ियां और एक एक्टिवा स्कूटर मिला है.

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: