Trending Nowशहर एवं राज्य

छत्तीसगढ़ी के प्रसिद्ध लोक गायक गोफेलाल ने की क्राइम पार्टनर की हत्या

मुंगेली। छत्तीसगढ़ी के प्रसिद्ध लोक गायक गोफेलाल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोप है कि उसने अपने एक साथी के साथ मिलकर एक युवक की पत्थरों से कुचल कर हत्या कर दी। इसके बाद शव को निर्माणाधीन पुल से नीचे फेंक दिया। बताया जा रहा है कि मरने वाला युवक लोक गायक का क्राइम पार्टनर था और चोरी के आरोप में जेल जाने के बदले अपना हिस्सा मांग रहा था। अभी तक हत्या में शामिल गोफेलाल का साथी फरार है। मामला मुंगेली जिले के जरहागांव थाना क्षेत्र का है।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को 21 जुलाई की सुबह 7 बजे धरमपुरा से दशरंगपुर के बीच में निर्माणाधीन पुल के पास NH-130A पर घायल युवक के पड़ा मिला था। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। उसके सिर, आंख, नाक, जबड़े और पीठ पर गंभीर चोट के निशान थे। शव की शिनाख्त 22 जुलाई को बेमेतरा के नवागढ़, हरिहरपुर निवासी राज कुमार पात्रे (33) के रूप में हुई। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद हत्या का मामला दर्ज कर लिया।

चोरी का ट्रैक्टर खरीदा, इल्जाम राजकुमार ने लिया

जांच शुरू की तो पता चला कि करीब 5-6 माह पहले हरिहरपुर निवासी लोक गायक गोफेलाल गेंदले ने एक चोरी का ट्रैक्टर खरीदा था। इसके बाद पुलिस को पता चलने पर राजकुमार पात्रे ने आरोप अपने ऊपर ले लिया और जेल चला गया। इसके बाद पुलिस ने साइबर सेल की मदद ली तो शव मिलने के एक दिन पहले गोफेलाल की लोकेशन घटना स्थल पर पता चली। इसके बाद पुलिस ने गायक गोफेलाल को हिरासत में ले लिया। पूछताछ में गोफेलाल ने हत्या की बात स्वीकार कर ली है।

गोफेलाल ने पुलिस को बताया कि राजकुमार पात्रे ने चोरी का इल्जाम अपने ऊपर ले लिया था और जेल चला गया। इसके बदले में उसने राजकुमार को बाइक और कुछ रुपए देने का वादा किया था। जेल से छूटने के बाद गोफेलाल से राजकुमार बाइक और रुपए की डिमांड करने लगा। पहले तो गोफेलाल टाल-मटोल करता रहा। इसके बाद भी राजकुमार के बार-बार दबाव बनाने पर तंग आकर 20 जुलाई को गोफेलाल ने हत्या की साजिश रची। इसमें अपने एक साथी मनीष अनंत को भी शामिल किया।

शराब पिलाई फिर कार में ले जाकर हत्या कर दी

गोफेलाल ने पुलिस को बताया कि 20 जुलाई को जब राजकुमार बिलासपुर से गांव लौटा तो मनीष और टेमरी गांव निवासी देवचरण के साथ बैठकर सबने शराब पी। इसके बाद कार में बैठकर सब धरमपुरा-दशरंगपुर के बीच पहुंचे। वहां गाड़ी खड़ी कर गोफेलाल और मनीष ने राजकुमार से हाथापाई शुरू कर दी व पत्थर मारने लगे। यह देखकर देवचरण डरकर भाग गया। इसके बाद राजकुमार को मरा हुआ समझकर दोनों ने उसे सड़क किनारे नाले में फेंक दिया और भाग गए। वहीं मनीष घटना के दिन से ही फरार है।

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: