Trending Nowशहर एवं राज्य

सड़कों पर मवेशियों के जमावड़े से रोका-छेका अभियान बेअसर सरकार का योजना सिर्फ कागजों पर

संजय महिलांग

नवागढ़ सोमठाकुर..सडकों पर.मवेशियों के बैठने से बाइक, बड़े वाहनों को होता है परेशानी.. गौठान में नही है मवेशियों के लिए खाने को पैरा

राज्य सरकार ने रोका-छेका अभियान के तहत शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में भी गोठान का निर्माण कर यहां मवेशियों को रखने का इंतजाम किया है। लेकिन योजना सिर्फ कागजों पर ही सिमट कर रहा गया है इस ओर नही है नगर पंचायात, पंचायत सरपंच, सचिव एवं संबंधित अधिकारियों का ध्यान

नवागढ़ विधानसभा के अंतर्गत कई पंचायतों में लाखो रुपये की लागत खर्च करके गौठान बनाया गया है लेकिन सड़कों पर सैकड़ों मवेशी जगह-जगह सड़कों पर डेरा जमा रखा है।

नगर पंचायत नवागढ़ सहित नवागढ़ ब्लाक के कई पंचायतों में रोका-छेका अभियान का असर कहीं भी दिखाई नहीं दे रहा है। अभियान शुरू होने के बाद इसे अमल में लाने में लगभग विफल हो गया है। आलम यह है कि ज्यादातर मुख्य सड़कों के साथ-साथ अंदरूनी इलाकों में भी सड़कों पर बड़ी संख्या में मवेशी बैठे दिखाई देते हैं। जबकि लाखो रुपये की लागत से बनाए गए गौठान में मवेशी ना के बराबर हैं। सोम ठाकुर ने कहा कि पूरे नवागढ़ विधानसभा सहित नगर पंचायत नवागढ़ में आवारा मवेशी कारण आम राहगीर सहित किसान सभी परेशान हैं सैंकड़ों की संख्या में मवेशियों की सड़कों पर मौजूदगी से हादसे की आशंका भी बनी रहती है। रात के वक्त कई बार लोग हादसों के शिकार भी हो चुके हैं।

नवागढ़ ब्लाक के कई गौठान में नही है मवेशियों के लिए खाने के लिए पैरा

सांसद प्रतिनिधि सोम ठाकुर ने बताया कि नवागढ़ ब्लाक के कई गौठानो तो बना दिया गया है लेकिन देखरेख के अभाव में पूरा अव्यवस्था मवेशियों के लिए चारा पानी पैरा नही है और ना बैठने के लिए सही ढंग की जगह पूरा कीचड़ दलदल में मवेशी बैठे रहते हैं साथ ही साथ गौठान में एक भी सूचना पटल नहीं लगा हुआ है की गौठान समिति कौन है कितने लाख के बना है ऐसा कोई भी जानकारी सूचना पटल भी नहीं लगाया गया है

गौरतलब हो कि जब कोई अधिकारी जिले या ब्लॉक से निरीक्षण के लिए आते हैं तब गौठान को व्यवस्था करके रखते हैं बाद में इस ओर ध्यान भी नही देते है पंचायत एवं गौठान समिति द्वारा

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: