Trending Nowदेश दुनिया

‘गांव की तीन महिलाएं इच्छाधारी नागिन’, झारखंड में इसी अंधविश्वास की बलि चढ़ा दी गईं तीन माताएं

रांची: आपने इच्छाधारी नागिन से जुड़े काफी सीरियल और सिनेमा देखे होंगे। इस विषय पर न जाने कितनी फिल्में बनीं, लेकिन क्या आपको लगता है कि ऐसा सच में होता है? आपकी तरह ही हमें भी बिल्कुल नहीं लगता। कुछ चीजें समझ के परे होती हैं और इसे ही अंधविश्वास कहा जाता है, मतलब सुनी-सुनाई वो कहानियां जिसे लोग सच मान लेते हैं। लेकिन जब वो इस झूठे ‘सच’ को जीने लगते हैं तो इसका अंजाम बेहद बुरा होता है। ठीक ऐसा ही हुआ झारखंड की राजधानी रांची में। यहां एक बेटे को अपनी मां पर ही ये शक हो गया कि वो इच्छाधारी नागिन है और उनकी दो महिला मित्र भी वही हैं। तीनों गांव में युवकों को डस कर अपना शिकार बना रही हैं। इसके बाद जो हुआ वो जानकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे।

इच्छाधारी नागिन के शक में मां समेत तीन को मार डाला
रांची जिले के सोनाहातू थाना क्षेत्र में डायन बिसाही का आरोप लगाकर तीन महिलाओं की लाठी-डंडे से पीट-पीटकर हत्या करने के मामले में पुलिस ने 15 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों में अभिमन्यू सिंह मुंडा, ललित सिंह मुंडा, संतोष सिंह मुंडा, सहदेव सिंह मुंडा, जन्मेनत्रय लोहरा का नाम शामिल है। इसके अलावा बबलू सिंह मुंडा, सुकरा मुंडा, पुईता सिंह मुंडा, मुचिराम मुंडा,नमीसिंह मुंडा, नंद किशोर सिंह मुंडा, बिरहर सिंह मुंडा, मंगल सिंह मुंडा, दिनेश सिंह मुंडा और संजय सिंह मुंडा को भी गिरफ्तार किया गया है।
ऐमजॉन पर ग्रेट इंडियन फेस्टिवल जल्द, बंपर छूट, शानदार ऑफर्स |

बेटे को था मां पर इच्छाधारी नागिन होने का शक
एसएसपी कौशल किशोर ने मामले की गंभीरता को देखते हुए बुंडू एसडीपीओ अजय कुमार के नेतृत्व में एसआईटी टीम का गठन किया था। पुलिस की टीम ने कार्रवाई करते हुए हत्या में शामिल 15 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। बताया गया कि मारी गई महिलाओं में एक के बेटे ललित को शक था कि उसकी मां और गांव की दो अन्य महिलाएं सांप बन कर गांव के युवाओं को डंस रही हैं।

पुलिस की लोगों से अपील
इच्छाधारी नागिन के इस फितूर और अंधविश्वास के चलते तीनों महिलाओं को पीट-पीट कर मौत के घाट उतार दिया गया। ग्रामीणों ने तीनों महिलाओं की हत्या के बाद उनके शव को एक ऑटो में रखा। इसके बाद उसे गांव से ढाई किलोमीटर दूर स्थित मारांगबुरू पहाड़ी के जंगल में ले जाकर फेंक दिया। एसडीपीओ अजय कुमार ने मंगलवार को आम जनता से अपील किया है कि इस तरह की घटना समाज के लिए कुरीति है। लोग अंधविश्वास में आकर ऐसी घटना को अंजाम ना दे जो मानवता के लिए कलंक हो।

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: