Trending Nowशहर एवं राज्य

राधा-कृष्ण का पंचामृत से हुआ अभिषेक, सुबह से दर्शन के लिए उमड़ी भक्तों की भीड़, भक्तों ने 56 भोग लगाकर मनाया जन्मोत्सव

बिलासपुर। संस्कारधानी में राधा अष्टमी को लेकर भक्तों में जबरदस्त उत्साह है। डीपूपारा स्थित इस्कान मंदिर में पंचामृत से राधा-कृष्ण जी का अभिषेक हुआ। 56 भोग लगाकर राधा जी का जन्मोत्सव मनाया गया। मसानगंज राधा-कृष्ण मंदिर, राधा-कृष्ण मंदिर कोनी, व्यंकटेश मंदिर, घोंघा बाबा मंदिर, मसानगंज पंचमुखी हनुमान मंदिर सहित शंकर नगर राधा-कृष्ण मंदिर में सुबह से भक्त दर्शन के लिए उमड़े।

हिंदू पंचांग के अनुसार, कृष्ण जन्माष्टमी के 15 दिन बाद राधाष्टमी का पर्व मनाया जाता है। भगवान श्री कृष्ण की प्रिय राधा रानी का जन्मोत्सव भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि यानी आज चार सितंबर को शहर में मनाया गया। इस्कान मंदिर में राधा-कृष्ण को पंचामृत से अभिषेक कराया गया। 56 भोग लगाने के बाद राधारानी की महिमा भक्तों को सुनाई गई।

जिसके बाद भजन किर्तन हुआ। उदया तिथि के कारण सुबह 10 बजकर 40 मिनट तक ही मंदिरों में विशेष पूजा अर्चना की गई। मंदिरों में सुबह धूप झांकी खुलने पर ठाकुर श्रीजी का अधिवास पूजन हुआ। छप्पन भोग झांकी के दर्शन करने भक्त पहुंचे थे। श्रृंगार झांकी में आरती के बाद राधारानी को कपड़े, फल, टाफी सहित अन्य सामान अर्पित किए गए। शाम को फूल बंगला झांकी के दर्शन होंगे।

इस्कान मंदिर में सुबह नौ बजे तक तिथि पूजा के बाद प्रियाजी का पंचामृत अभिषेक किया गया। जिसमें दूध, दही, घी, शहद का उपयोग किया गया। इस दौरान पंडित ने वेद पाठ किया। राधारानी और ठाकुर श्रीजी को नवीन पीत वस्त्र की पोशाक और विशेष अलंकार धारण कराया गया। ठाकुर श्रीजी का विशेष प्रकार के फूलों का श्रृंगार किया जाएगा। पंजीरी लड्डू, मावे की बरफी व पंजीरी का भोग लगाया जाएगा। दिव्य श्रृंगार को देखने भक्त सुबह से डटे थे।

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: