Trending Nowदेश दुनिया

विश्वविद्यालय के कैंपस में प्रोफेसर ने की खुदकुशी, एक दिन पहले किया गया निलंबित

जम्मू : विश्वविद्यालय परिसर में एक एसोसिएट प्रोफेसर का शव बुधवार को उनके आवासीय क्वार्टर के अंदर फंदे से लटका पाया गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। कुछ विद्यार्थियों की ओर से उनके खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायत किए जाने पर एक दिन पहले ही उन्हें निलंबित किया गया था। विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने बताया कि मेरठ के रहने वाले मनोविज्ञान के प्रोफेसर 54 वर्शीय चंद्र शेखर अपनी पत्नी और बेटी के साथ कैंपस में रह रहे थे और एक सितंबर को उनके खिलाफ दर्ज कराई गई शिकायत से परेशान थे।

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि पुलिस ने जब दरवाजा तोड़कर उनके आवास के कमरे में प्रवेश किया, तो उनका शव फंदे से लटका मिला। उन्होंने बताया कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले जाया गया है। अधिकारी ने बताया कि एसोसिएट प्रोफेसर के खिलाफ शिकायत को यौन उत्पीड़न के विषयों से संबद्ध आंतरिक समिति को जांच के लिए भेज दिया गया था और प्रोफेसर को पिछले दिन की प्रारंभिक रिपोर्ट के आधार पर निलंबित किया गया था। अधिकारी ने कहा कि संबंधित धाराओं के तहत एक मामला दर्ज किया गया है और विस्तृत जांच जारी है।

मंदिर में चोरी के आरोपों से आहत पुजारी ने की खुदकुशी

एक अन्य खबर में राजस्थान में सीमावर्ती बाड़मेर जिले के समदड़ी थाना क्षेत्र में एक पुजारी ने बुधवार सुबह आत्‍महत्‍या कर ली। पुलिस के अनुसार, पुजारी मंदिर में चोरी के आरोपों से आहत था। थानाधिकारी दाऊद खान ने बताया कि रघुनाथ जी मंदिर के पुजारी 52 वर्षीय भीमदास प्रतिदिन की तरह बुधवार सुबह मंदिर गए और पूजा, आरती करने के बाद उन्होंने मंदिर के दरवाजे बंद कर दिए और फांसी लगा ली।

थानाधिकारी ने बताया कि पुजारी के शव के पास एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें पुजारी ने एक समाज विशेष के लोगों की ओर से उस पर चोरी का झूठा आरोप लगाने से आहत होकर आत्महत्या करने की बात लिखी है। पुजारी ने लिखा कि उन्होंने चोरी नहीं की है और कतिपय समाज के लोग उसे बदनाम कर रहे हैं। पुजारी का परिवार, तीन पीढ़ियों से इस मंदिर में पूजा कर रहा है। थानाधिकारी ने बताया कि मंदिर में सोमवार देर रात चोरी की घटना हुई थी, जिसके बाद खत्री समाज के लोगों ने भीमदास पर ही चोरी का आरोप लगा दिया।

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: