Trending Nowदेश दुनियाशहर एवं राज्य

MONKEYPOX : सेक्सुअल बिहेवियर, हगिंग, और किसिंग से फैलता है मंकीपॉक्स ?, WHO की गाइडलाइन पढ़ ले जरूर ..

MONKEYPOX: Monkeypox spreads through sexual behavior, hugging, and kissing?, Must read WHO’s guideline ..

नई दिल्ली। दुनिया कोरोनावायरस से अभी उबर भी नहीं पाई थी कि मंकीपॉक्स ने दस्तक दे दी है. शरीर में चकते, सिरदर्द, थकावट, बुखार जैसे लक्षणों वाली इस बीमारी ने स्वास्थ्य विशेषज्ञों और सरकारों की चिंता बढ़ा दी है.

ताजा आंकड़े बताते हैं कि अबतक दुनिया के 78 देशों में 18 हजार लोगों के बीच मंकीपॉक्स फैल चुका है. इनमें से 70 फीसदी केस यूरोप से आए हैं जबकि 25 फीसदी अमेरिका से है. हालांकि, राहत की बात यह है कि इतने बड़े संक्रमण के बावजूद अबतक 5 लोगों की मौत ही मंकीपॉक्स से हुई है. जबकि लगभग 1800 लोगों को पूरी दुनिया में अस्पताल जाने की नौबत आई है.

भारत में भी मंकीपॉक्स दस्तक दे चुका है. देश में अबतक 5 लोगों में मंकीपॉक्स की पुष्टि हो चुकी है. इनमें से 3 केरल, एक केरल और एक दिल्ली का है. चिंता की बात यह है कि बुधवार को ही नोएडा और गाजियाबाद से मंकीपॉक्स के 3 संदिग्ध केस मिले हैं. इनके नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं. मंकीपॉक्स का एक संदिग्ध पेशेंट झारखंड से भी मिला है. हालांकि नोएडा की महिला का सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आया है

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार मंकीपॉक्स की बीमारी जानवरों से इंसानों में आई है. इससे संक्रमित होने पर व्यक्ति में चेचक जैसे लक्षण दिखते हैं. यूं तो मंकीपॉक्स कम मामलों में ही घातक साबित होता है. लेकिन इसमें लापरवाही खतरनाक साबित हो सकती है.

केंद्र सरकार की गाइडलाइन –

मंकीपॉक्स से निपटने, इसके संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दी है. इसके अनुसार मंकीपॉक्स के संपर्क में आए व्यक्ति को 21 दिनों तक आइसोलेशन में रहना जरूरी है. इसकी वजह यह है कि मंकीपॉक्स का इन्क्यूबेशन पीरियड 21 दिनों का है. इसके अलावा अनिवार्य मास्क पहनना. हाथों को लगातार धोते रहना. मंकीपॉक्स से प्रभावित त्वचा को पूरी तरह से ढक कर रखना भी जरूरी है.

वैक्सीन के लिए टेंडर जारी –

मंकीपॉक्स के बढ़ते खतरे के बीच भारत सरकार भी अलर्ट हो गई है. अब सरकार ने मंकीपॉक्स की जांच करने के लिए किट विकसित करने और वैक्सीन बनाने के लिए Expression of Interest जारी किया है. इसे आम बोल चाल की भाषा में टेंडर कहा जाता है. जो कंपनियां मंकीपॉक्स का वैक्सीन विकसित करने को इच्छुक हैं वे इसके लिए अप्लाई कर सकती हैं.

WHO की गाइडलाइन –

मंकीपॉक्स का प्रकोप देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी कुछ दिशानिर्देश जारी किए हैं. WHO ने कहा है कि मंकीपॉक्स से दूर रखने का सबसे अच्छा तरीका ये है कि इसके एक्सपोजर में आने से बचा जाए.

दो मर्दों के बीच होने वाले यौन संबंध मंकीपॉक्स को लेकर बड़ी चिंता –

WHO का मानना है कि मंकीपॉक्स से बचने के लिए दो मर्दों के बीच होने वाले यौन संबंधों को लेकर सबसे सावधान रहने की जरूरत है. WHO के अनुसार ऐसे लोगों को अपने सेक्स पार्टनर कम करने चाहिए. नए सेक्स पार्टनर बनाने से बचना चाहिए और अपने मौजूदा सेक्स पार्टनर के साथ सारी जानकारियां साझी करनी चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर उसे संपर्क स्थापित किया जा सके. WHO ने कहा है कि इस बारे में शर्म और भेद-भाव की भावना बीमारी के संक्रमण को और भी बढ़ा सकती है. बता दें कि ब्रिटेन में इस बीमारी के संक्रमण में गे-क्लब का बड़ा रोल रहा है.

WHO के अनुसार अब तक मंकीपॉक्स के 98% मामले उन पुरुषों में हैं जो पुरुषों के साथ यौन संबंध रखते हैं. लेकिन किसी को भी मंकीपॉक्स हो सकता है, यही वजह है कि डब्ल्यूएचओ की सिफारिश है कि दुनिया के देश बच्चों, गर्भवती महिलाओं और अन्य कमजोर समूहों में इस बीमारी के संक्रमण को रोकने के लिए कार्रवाई करें.

हगिंग, किसिंग भी है खतरनाक –

WHO के अनुसार नजदीकी संपर्क, गले लगना, गले लगाना, चुंबन, संक्रमित बिस्तर और तौलिये का प्रयोग भी मंकीपॉक्स के फैलने का कारण बन सकता है. WHO के अनुसार मंकीपॉक्स से बचने के लिए इन एहतियात का पालन करना बेहद जरूरी है.

6 मई को या था पहला केस –

6 मई को इंग्लैंड में मंकीपॉक्स का पहला मामला सामने आया था. इसके बाद से दुनिया में मंकीपॉक्स के केस तेजी से बढ़ रहे हैं. लगभग 70 दिनों के बाद मंकीपॉक्स ने भारत में दस्तक दे दी. भारत में 14 जुलाई को केरल में मंकीपॉक्स का पहला मरीज मिला था. अबतक केरल में तीन लोग इस बीमारी से पीड़ित हो चुके हैं. इसके बाद तेलंगाना में एक मरीज इस बीमारी की चपेट में आया.

मंकीपॉक्स ने उत्तर भारत में तब दस्तक दी जब राजधानी दिल्ली में 24 जुलाई को मंकीपॉक्स के एक मरीज की पुष्टि हुई थी. इस मामले में खास बात ये थी कि इस मरीज के विदेश जाने का कोई इतिहास नहीं था. यानी कि वो इस बीमारी की चपेट में घरेलू संक्रमण की वजह से आया.

गाजियाबाद में दो संदिग्ध –

बुधवार को गाजियाबाद में मंकीपॉक्स बीमारी के दो संदिग्ध मामले सामने आए हैं. एक संदिग्ध मरीज गाजियाबाद के अर्थला इलाके के रहने वाला है जो गाजियाबाद जिला अस्पताल में अपना चेकअप कराने के लिए पहुंचा था. इस व्यक्ति का सैंपल पुणे जांच के लिए भेजा गया है और उसे घर पर ही आइसोलेशन में रखा गया है. वहीं गाजियाबाद का रहने वाला दूसरा मरीज दिल्ली के एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती हुआ है और वहां भी उसके जांच के नमूने लेबोरेटरी भेजे गए हैं.  हालांकि जांच के बाद ही साफ होगा कि इन दोनों मरीजों में मंकीपॉक्स है या नहीं.

गाजियाबाद स्वास्थ्य विभाग इन संदिग्ध मामलों के बाद अलर्ट मोड में आ गया है और गाजियाबाद में मंकीपॉक्स के मरीजों के लिए 6 बेड्स भी रिजर्व किए गए हैं. साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने एडवाइजरी जारी कर कहा है कि शरीर पर रेसिस या दाने और जीभ पर दाने जैसे लक्षण दिखाई दें तो तुरंत स्वास्थ्य विभाग और डॉक्टर से संपर्क करें और आइसोलेशन में चले जाएं.

नोएडा में भी एक संदिग्ध, 10 बेड तैयार –

नोएडा में एक बुजुर्ग महिला में मंकीपॉक्स के लक्षण मिले हैं. इसके बाद महिला के सैंपल को जांच के लिए भेजा गया था. लेकिन ये रिपोर्ट निगेटिव आई है. महिला की उम्र 47 साल है. अधिकारियों का कहना है कि अब तक जिले में कोई भी कंफर्म केस नहीं मिला है. ये महिला ग्रेटर नोएडा में रहती है, महिला के परिजनों ने शरीर पर लाल दाग और बुखार की बात स्वीकारी है, फिलहाल बुजुर्ग महिला होम आइसोलेशन में है.

दिल्ली में मंकीपॉक्स का मरीज मिलने के बाद नोएडा के जिला अस्पताल में सतर्कता बढ़ा दी गई है. यहां 10 बेड का एक वार्ड तैयार किया गया है. स्वास्थ्य विभाग की तरफ से एक कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है. कंट्रोल रूम सेक्टर 39 स्थित अस्पताल में बनाया गया है. नोएडा के निवासी 9675322717 और 9899 75203 पर कॉल कर इस बीमारी की जानकारी ले सकते हैं. कंट्रोल रूम में दो डॉक्टरों को भी तैनात किया गया है.

सीएमओ बोले स्वास्थ्य विभाग की पूरी तैयारी –

गौतमबुद्ध नगर के सीएमओ सुनील कुमार शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि देश में मंकीपॉक्स के बढ़ते केस को देखते हुए नोएडा में एहतियात के तौर पर जिला अस्पताल में 10 बेड का वार्ड तैयार किया गया है, ताकि बारीकी से मरीजों की जांच की जा सके, जिस मरीज को भी बुखार हो, शरीर पर सूजन हो, लाल चकत्ते हो, उनके सैंपल को लेकर लखनऊ में जांच के लिए भेजा जाएगा, फिलहाल नोएडा में जांच की कोई सुविधा नहीं है, इसलिए लखनऊ सैंपल भेजा जा रहा है.

इधर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि हर कोविड अस्पताल में मंकीपॉक्स से जुड़े केस के लिए कम से कम 10 बेड रिजर्व किए जाएं.

झारखंड में भी एक संदिग्ध  –

झारखंड के गढ़वा में सात साल की एक लड़की में मंकीपॉक्स के लक्षण मिले हैं. इसके बाद लड़की के सैंपल को जांच के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी पुणे में जांच के लिए भेजा गया है. इसके अलावा झारखंड सरकार ने स्वास्थ्य विभाग को एहतियाती तैयारी करने को कहा है. स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त सचिव अरुण कुमार सिंह ने समाचार एजेंसी पीटीआई को कहा है कि लड़की को बुखार था और उसके शरीर पर रैशेज थे. राज्य सरकार ने सभी 24 जिलों में अधिकारियों को सतर्क कर दिया है.

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: