Trending Nowराजनीतिशहर एवं राज्य

MAHARASHTRA POLITICS : मुंबई में चल रही NCP की बैठक, सुप्रिया सुले की होगी ताजपोशी ? या देखने मिलेगा नया ट्विस्ट ..

MAHARASHTRA POLITICS: NCP meeting going on in Mumbai, Supriya Sule will be crowned? Or will see new twist..

मुंबई। मंगलवार को शरद पवार के एनसीपी के अध्यक्ष पद छोड़ने के ऐलान के बाद मुंबई के वाई.बी.चव्हाण सेंटर में शरद पवार समेत पार्टी के बड़े नेताओं की अहम बैठक हो रही है. कार्यकर्ताओं के जज्बाती होने के बाद शरद पवार ने भले ही उनका सम्मान रखते हुए अपने फैसले पर फिर से विचार करने के लिए दो-तीन दिनों का वक्त मांग लिया है, लेकिन जो बातें सामने आ रही हैं, उनसे यही संकेत मिल रहे हैं कि शरद पवार अपने फैसले को बदलने वाले नहीं हैं.

आज (3 मई, बुधवार) सुबह दस बजे शरद पवार अपने सिल्वर ओक निवास से मुंबई के वाई.बी.चव्हाण सेंटर पहुंचे और पार्टी पदाधिकारियों से मुलाकात का कार्यक्रम शुरू किया. अब जैसा लग रहा है कि शरद पवार अपने फैसले को वापस नहीं लेंगे तो, दो अपडेट्स सामने आ रहे हैं. पहले तो राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने के लिए सुप्रिया सुले के नाम पर मुहर लगने के संकेत हैं. दूसरा अपडेट यह है कि शरद पवार को एनसीपी में बालासाहेब ठाकरे वाला स्टेटस दिया जाए. यानी जिस तरह शिवसेना प्रमुख का पद बालासाहेब ठाकरे के नाम से हमेशा के लिए लॉक कर दिया गया है, उसी तरह एनसीपी के अध्यक्ष या प्रमुख के पद पर शरद पवार का नाम पार्टी के साथ सदा-सर्वदा के लिए जुड़ जाए और एक कार्यकारी अध्यक्ष का चुनाव किया जाए.

राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद के लिए सुप्रिया सुले के नाम पर मुहर लगने के संकेत –

शरद पवार के साथ इस वक्त जो एनसीपी नेताओं की मीटिंग शुरू है, उसमें अजित पवार, सुप्रिया सुले, हसन मुश्रिफ, प्रफुल्ल पटेल, पी.सी चाको, नरहरि झिलवल, रोहित पवार, छगन भुजबल जैसे नेता मौजूद हैं. इस दौरान जितेंद्र आव्हाड ने भी इस्तीफा दे दिया है. वे महाविकास आघाड़ी में कैबिनेट मंत्री रहे हैं. जितेंद्र आव्हाड के साथ उनके कई कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने इस्तीफा दिया है.

जितेंद्र आव्हाड ने भी दिया इस्तीफा, अब तक कई नेताओं ने दिए इस्तीफे –

रात भर में आधा दर्जन से ज्यादा जिलाध्यक्षों ने इस्तीफे दिए हैं. इनमें पुणे, अमरावती, चंद्रपुर, सांगली, बुलढाणा, पनवेल के जिलाध्यक्ष शामिल हैं. सबकी मांग यही है कि शरद पवार पार्टी के नेताओं को विश्वास में लिए बिना इतना बड़ा फैसला कैसे ले सकते हैं.

कल रात भी एनसीपी के नेताओं और पार्टी पदाधिकारियों की अहम बैठक हुई. राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए सुप्रिया सुले और प्रफुल्ल पटेल के नामों पर चर्चा हुई. हालांकि इस मीटिंग में शरद पवार के फैसले को नामंजूर किया गया और शरद पवार को अगले दो-तीन दिनों में अपना फैसला वापस लेने को कहा गया है और अध्यक्ष पद पर बने रहने की अपील की गई है. कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए छगन भुजबल और प्रुफुल्ल पटेल के नामों की चर्चा के साथ ही छगन भुजबल के नाम पर भी चर्चा हुई.

अजित पवार के नाम पर नहीं हुई चर्चा, वजह यह रही –

इस पद के लिए अजित पवार के नाम पर चर्चा नहीं हुई. इसकी वजह यह रही कि वे खुद भी राष्ट्रीय राजनीति में अपना भाग्य आजमाने के लिए इंटरेस्टेड नहीं रहे हैं और वर्तमान में भी वे महाराष्ट्र की ही राजनीति में सक्रिय हैं. पर अजित पवार की चर्चा तक नहीं होना एक तरह से उनके कद को कम करने जैसा ही समझा जा सकता है. संभावनाएं यही हैं कि सुप्रिया सुले की राष्ट्रीय अध्यक्ष या कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर ताजपोशी हो जाएगी. अंतिम फैसला लेने का अधिकार शरद पवार को दिया गया है.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Share This: