Trending Nowखेल खबर

13 की उम्र में छोड़ा था घर, अब इंग्लैंड में मचाया स्विंग से कहर, देश कर रहा सलाम

  • भारत की तेज गेंदबाज रेणुका ठाकुर अपने डेब्यू के बाद से ही स्विंग को लेकर चर्चा में हैं. इंग्लैंड के खिलाफ भी उनकी स्विंग गेंदबाजी का कमाल देखने को मिला है

नई दिल्ली: भारतीय महिला टीम ने इंग्लैंड को दूसरे वनडे में हराकर इतिहास रच दिया. हरमनप्रीत कौर एंड कंपनी ने वनडे सीरीज का दूसरा मुकाबला जीतकर सीरीज में 2-0 से अजेय बढ़त हासिल की. इस जीत का जितना श्रेय हरमनप्रीत कौर की आतिशी पारी को जाता है उतना ही श्रेय ‘स्विंग क्वीन’ बन चुकी रेणुका ठाकुर को भी जाता है.

रेणुका ठाकुर ने दूसरे वनडे मुकाबले में 10 ओवर डाले. अपने पूरे स्पेल में उन्होंने 57 रन दिए और चार विकेट झटके. रेणुका ने अपनी स्विंग गेंदबाजी के चलते ही मेजबान टीम के टॉप बल्लेबाजों का शिकार किया और भारत की ऐतिहासिक जीत तय की.

रेणुका ने सबसे पहले अपनी शानदार इनस्विंग गेंद पर सोफिया डंक्ले को बोल्ड किया जो कि एक ही रन बना पाईं थी. इसके बाद बाद एम्मा लैंब उनका शिकार बनी जो कि एलबीडब्ल्यू हुईं. डैनियाल व्याट को रेणुका ने अपनी सटीक यॉर्कर का शिकार बनाया जिन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ सबसे ज्यादा 65 रन बनाए. सोफी एक्लेस्टन उनका चौथा शिकार बनी.

रेणुका सिंह ने पिछले साल जुलाई में डेब्यू किया था और तबसे लेकर अब तक उन्होंने लगभग हर बड़ी टीम को अपनी स्विंग का शिकार बनाया है. कॉमनवेल्थ गेम्स में भी उनकी स्विंग का जलवा देखने को मिला था जहां वह सबसे ज्यादा विकेट लेने वाली गेंदबाज बनी थीं. रेणुका ने अपने जीवन में खेल के लिए जो भी त्याग किए उसका फल उन्हें मिलने लगा है.

रेणुका के लिए सफलता का यह सफर आसान नहीं रहा. महज तीन साल की उम्र में उनके सिर पर से पिता का साया उठा गया था. रेणुका के पिता को क्रिकेट बहुत पसंद था और यही गुण बेटी में भी आए. रेणुका ने महज 13 साल की उम्र में क्रिकेट लिए ही अपना घर और परिवार छोड़कर धर्मशाला चली गई थीं जहां से उनके क्रिकेट का सफर शुरू हुआ.

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: