Trending Nowशहर एवं राज्य

CG ELECTION 2023 : मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने चुनावी प्रक्रिया में मदद के लिए भारतीय वायु सेना के प्रयासों की सराहा

CG ELECTION 2023: Chief Electoral Officer appreciated the efforts of Indian Air Force to help in the electoral process

रायपुर. छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2023 के लिए पहले चरण का मतदान 7 नवंबर को पूरा हुआ. इस दौरान भारतीय वायु सेना ने सभी चुनौतियों का सामना करते हुए नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में मतदान दल को पोलिंग बूथ तक पहुंचाने और उन्हें सुरक्षित वापस लाने का काम किया. छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने चुनाव कराने में मदद के लिए भारतीय वायु सेना के इन प्रयासों की सराहना की है.

सीईओ ने भारतीय वायु सेना प्रयासों की सराहना की –

सोशल मीडिया साइट एक्स पर एक पोस्ट में मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि भारतीय वायुसेना ने सभी चुनौतियों को चुनौती देते हुए वामपंथी उग्रवाद (एलडब्ल्यूई) से प्रभावित क्षेत्रों में से एक में एक सफल चुनावी प्रक्रिया को सक्षम बनाया. भारतीय वायु सेना ने आठ एमआई 17 के साथ 404 उड़ानें भरीं, 853 मतदान दल के सदस्यों को 43 स्थानों से सुरक्षित रूप से इधर-उधर पहुंचाया, जिससे वामपंथी उग्रवाद से प्रभावित क्षेत्र में एक सफल चुनावी प्रक्रिया संभव हो सकी. भारतीय वायु सेना को सलाम.”

पहले चरण में 78 फीसदी हुआ मतदान –

छत्तीसगढ़ में पहले चरण के तहत 20 विधानसभा क्षेत्रों के लिए हुए मतदान का प्रतिशत 71.93 प्रतिशत था, जो डाक मतपत्रों की गिनती के डेटा को शामिल करने के बाद 78 फीसदी तक पहुंच गया. छत्तीसगढ़ में खैरागढ़-छुईखान-गंडई विधानसभा क्षेत्र में सबसे अधिक 76.31 प्रतिशत मतदान हुआ. इसके बाद मोहला-मानपुर-अंबागढ़ चौकी में 76 प्रतिशत मतदान हुआ. सबसे कम मतदान प्रतिशत बीजापुर में 40.98 प्रतिशत दर्ज किया गया. यहां 75.51 प्रतिशत वोटिंग हुई. उत्तर बस्तर कांकेर में 75.35 प्रतिशत, कोंडागांव में 75.1 प्रतिशत, राजनांदगांव में 75.1 प्रतिशत और बस्तर (जगदलपुर) में 72.41 प्रतिशत मतदान हुआ.

आपको बता दें कि चुनाव आयोग ने छत्तीसगढ़ में पहले चरण के लिए 5,304 मतदान केंद्र बनाए थे. पहली बार बस्तर संभाग के 126 गांवों में नए मतदान केंद्र स्थापित किए गए. जिससे इन गांवों के मतदाताओं के लिए वोटिंग करना आसान हो गया. ऐसा करने से उन्हें घने जंगलों, पहाड़ियों, नदियों को पार कर लंबी यात्राएं नहीं करनी पड़ीं. साथ ही नक्सलियों के खतरों का सामना भी नहीं करना पड़ा. नए मतदान केंद्र ईसीआई मानदंडों के अनुरूप थे, जिसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना था कि किसी भी मतदाता को वोट देने के लिए दो किमी के दायरे से आगे नहीं जाना पड़े.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Share This: