Trending Nowशहर एवं राज्य

CG BREAKING : बलरामपुर के बाद धमतरी से 2 खनिज अधिकारी गिरफ्तार, ED की ताबड़तोड़ कार्यवाही जारी

CG BREAKING: After Balrampur, 2 mineral officials arrested from Dhamtari, ED’s swift action continues

रायपुर। छत्तीसगढ़ में प्रवर्तन निदेशालय (ED) की ताबड़तोड़ कार्रवाई लगातार जारी है। ED की टीम ने एक बार फिर प्रदेश में छापामार कार्रवाई करते हुए कई लोगों को हिरासत में लिया है। ईडी की टीम ने सोमवार देर रात बलरामपुर से खनिज अधिकारी अवधेश बारिक को गिरफ्तार किया औऱ उन्हें लेकर रायपुर रवाना हो गई। इसके साथ ही ईडी की टीम ने धमतरी से भी जिला खनिज अधिकारी बजरंग पैकरा और खनिज निरीक्षक खिलावन कुलार्य को भी हिरासत में लिया है।

ईडी की टीम सोमवार को धमतरी और बलरामपुर में कलेक्ट्रेट स्थित खनिज विभाग के दफ्तर में दबिश दी। ईडी की टीम ने धमतरी में जिला खनिज अधिकारी बजरंग पैकरा, खनिज निरीक्षक खिलावन कुलार्य से लंबी पूछताछ की। जिसके बाद केन्द्रीय जांच एजेंसी की टीम ने दोनों अधिकारियों को अपनी हिरासत में लेकर रायपुर रवाना हो गई। इसके साथ ही एक नगर सैनिक मनोहर सिन्हा को भी साथ ले जाने की खबर है।

वहीं बलरामपुर जिले में ईडी की टीम ने सोमवार को ही जिला खनिज अधिकारी अवधेश बारिक से देर रात तक पूछताछ की और इसके बाद उऩ्हें गिरफ्तार किया गया। बारिक इससे पहले रायगढ़ में ही पदस्थ थे। रायगढ़ में रानू साहू भी कलेक्टर हैं। जिनके सरकारी निवास और दफ्तर में भी ईडी का छापा पड़ चुका है। साथ ही उनसे एक दौर की पूछताछ हो चुकी है। सूत्रों के मुताबिक ईडी जल्दी ही अब रानू साहू को तलब कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक ईडी तीनों अधिकारियों को कल कोर्ट में पेश कर सकती है।

कई बड़े अफसर निशाने पर

सूत्रों के मुताबिक छत्तीसगढ़ में कई बड़े प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ही पुलिस के कुछ बड़े अफसर भी ईडी की राडार पर हैं। जिनमें IAS के साथ ही राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी भी शामिल हैं। जिस तरह से पिछले डेढ़ महीने से ईडी की टीम प्रदेश में कार्रवाई कर रही है। उससे माना जा रहा है कि कभी भी इन अफसरों पर केन्द्रीय जांच एजेंसी की गाज गिर सकती है।

आपको बता दें ईडी की टीम ने 11 अक्टूबर को छत्तीसगढ़ में एक साथ कई जगह दबिश दी थी। ईडी की टीम ने कोयला कारोबारी सूर्यकांत तिवारी उनके रिश्तेदारों, IAS अधिकारियों समीर विश्नोई, जेपी मौर्या और रायगढ़ कलेक्टर रानू साहू के अलावा कुछ कारोबारियों के यहां छापा मारा था। छापे के दौरान रानू साहू मौजूद नहीं थी, जिसके बाद ईडी की टीम ने उनके बंगले को सील कर दिया था। हालांकि दो दिन बाद रानू साहू ने ईडी को पत्र लिखकर मेडिकल इमरजेंसी की वजह से हैदराबाद में होना बताया था। बाद में ईडी ने कलेक्टर बंगला सहित उनके दफ्तर में छापा मारा था।

ईडी की टीम ने छापे के बाद छत्तीसगढ़ में बड़े कोल घोटाले का पर्दाफाश किया था। इसके साथ ही ईडी ने IAS समीर विश्नोई, लक्ष्मीकांत तिवारी, सुनील अग्रवाल को गिरफ्तार किया था। छापे के दौरान फरार कोयला कारोबारी सूर्यकांत तिवारी ने कुछ दिनों बाद रायपुर की कोर्ट में सरेंडर किया था। जहां ईडी की टीम ने उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया था। फिलहाल सभी अभी रायपुर जेल में बंद हैं।

 

Share This:
%d bloggers like this: