Trending Nowशहर एवं राज्य

USS RONALD REAGAN : चीन को काबू में रखने के लिए अमेरिका का तरीका, परमाणु एयरक्राफ्ट करियर को ताइवान के पास तैनात

America’s way of keeping China under control, nuclear aircraft carrier deployed near Taiwan

इंटरनेशनल डेस्क। अमेरिकी नौसेना का यूएसएस रोनाल्ड रीगन दुनिया के दूसरे सबसे बड़े विमानवाहक पोत की श्रेणी में आता है. चीन को काबू में रखने के लिए अमेरिका ने इस परमाणु एयरक्राफ्ट करियर को ताइवान के पास तैनात कर दिया है. इस बैटलशिप में युद्ध से संबंधित सभी खासियत मौजूद है. यह निमित्ज क्लास का एयरक्राफ्ट करियर है, जिसका नाम द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यूएस पैसिफिक फ्लीट कमांडल फ्लीट एडमिरल चेस्टर डब्ल्यू निमित्ज के नाम पर दिया गया था. हालांकि रोनाल्ड रीगन नाम पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति के नाम पर है.

निमित्ज क्लास में परमाणु ईंधन से संचालित होने वाले 10 एयरक्राफ्ट करियर्स हैं. जिनमें रोनाल्ड रीगन सबसे नए करियर्स में से एक है. इसे 12 जुलाई 2003 को अमेरिकी नौसेना को सौंपा गया था. तब से यह लगातार सक्रिय रूप से अमेरिका के सातवें फ्लीट का प्रमुख जंगी जहाज है. इसकी डिस्प्लेसमेंट 1.01 लाख टन से ज्यादा  और लंबाई 1092 फीट है. इस एयरक्राफ्ट करियर को दो परमाणु रिएक्टर ताकत प्रदान करते हैं.

यूएसएस रोनाल्ड रीगन में चार स्टीम टरबाइन हैं. यह 56 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से पानी में चलता है. इसकी रेंज असीमित है. यह लगातार 20 से 25 साल तक चल सकता है. इस एयरक्राफ्ट करियर पर 90 फिक्स्ड विंग्स विमान और हेलिकॉप्टर तैनात हो सकते हैं.

यूएसएस रोनाल्ड रीगन पर तीन तरह के घातक हथियार तैनात हैं. पहला है इवॉल्व्ड सी स्पैरो मिसाइल दूसरा है रोलिंग एयरफ्रेम मिसाइल और तीसरा है क्लोज-इन वेपंस सिस्टम, ये तीनों हथियार हमला करके दुश्मन के टारगेट को खत्म कर सकते हैं. साथ ही दुश्मन के विमानों, ड्रोन्स, रॉकेट्स और मिसाइलों से जहाज को बचा सकते हैं.

इसपर 2480 सैनिक तैनात हो सकते हैं. रोनाल्ड रीगन पर अत्याधुनिक इलेक्ट्रॉनिक वॉरफेयर सिस्टम लगा है. जिसे AN/SLQ-32A(V)4 काउंटरमेजर सूइट कहते हैं. इसके अलावा SLQ-25A Nixie टॉरपीडो काउंटरमेजर सिस्टम लगा है जो दुश्मन के टॉरपीडो को आने का समय, गति आदि पहले ही बता देता है. ताकि उससे बचा जा सके.

4 अगस्त 2022 को अमेरिकी नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि यूएसएस रोनाल्ड रीगन को ताइवान के आसपास ही रहने का आदेश दिया गया है. क्योंकि चीन लगातार अपनी मिसाइलों से युद्धाभ्यास कर रहा है. इस एयरक्राफ्ट करियर पर अमेरिका के बेहतरीन फाइटर जेट्स तैनात हैं. इनमें F-35बी लाइटनिंग-2 ज्वाइंट स्ट्राइक फाइटर जेट्स भी शामिल हैं.

इसके अलावा यूएसएस रोनाल्ड रीगन पर F/A-18E/F Super Hornet फाइटर जेट्स, E-2C Hawkeye जासूसी विमान, SH-60F Seahawk हेलिकॉप्टर्स और C-2A Greyhound निगरानी विमान भी तैनात रहते हैं. ताइवान के पास तैनाती के समय इस करियर पर इन विमानों की संख्या का खुलासा अमेरिका ने नहीं किया है.

यूएसएस रोनाल्ड रीगन पर F-35 Lightning II फाइटर जेट तैनात है. इसे एक ही पायलट उड़ाता है. लंबाई 51.4 फीट, विंगस्पैन 35 फीट और ऊंचाई 14.4 फीट है. अधिकतम गति 1975 KM/घंटा है. कॉम्बैट रेंज 1239 KM है. अधिकतम 50 हजार फीट की ऊंचाई तक जा सकता है. इसमें 4 बैरल वाली 25 मिमी की रोटरी कैनन लगी है. जो एक मिनट में 180 गोलियां दागती है. इसमें चार अंदरूनी और छह बाहरी हार्डप्वाइंट्स हैं. हवा से हवा, हवा से सतह, हवा से शिप और एंटी-शिप मिसाइलें तैनात की जा सकती है. इसके अलावा चार तरीके के बम लगाए जा सकते हैं. यानी चीन को करारा जवाब देने के लिए ये फाइटर जेट काफी है.

दूसरा खतरनाक फाइटर जेट है एफ-18 सुपर हॉर्नेट, जिसकी गति मैक 1.8 है यानी 2222.4 किलोमीटर प्रतिघंटा. सुपर हॉर्नेट की रेंज 3300 किलोमीटर है. एफ-18 सुपर हॉर्नेट 50 हजार फीट पर उड़ सकता है. सुपर हॉर्नेट जहां 228 मीटर प्रति सेकेंड की गति से ऊपर जाता है. सुपर हॉर्नेट में AIM-120 AMRAAM मिसाइल लगती है. हॉर्नेट में 20 मिमी कैलिबर की M61A1 वल्कैन तोप लगी है.

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: