Trending Nowशहर एवं राज्य

Mungeli: जिले में एक भी शासकीय प्राथमिक और माध्यमिक शाला जर्जर और भवनविहीन नहीं होंगे, 26 जनवरी को दो शासकीय और दो अशासकीय शाला होंगे सम्मानित

मुंगेली। कलेक्टर अजीत वसंत की अध्यक्षता में आज जिला कलेक्टोरेट स्थित मनियारी सभा कक्ष में साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में उन्होने समय सीमा के लंबित प्रकरणों के संबंध में अधिकारियों से वन-टू-वन जानकारी प्राप्त की और निराकरण के संबंध में संबंधितों को आवश्यक निर्देश दिये। बैठक में कलेक्टर वसंत ने जिले में संचालित शासकीय प्राथमिक शाला और माध्यमिक शाला के भवनों के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होने कहा कि रोजगार के अवसरों से लेकर अच्छे नागरिकों के  निर्माण में शाला भवनों की भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इस हेतु जिले में एक भी शासकीय प्राथमिक और माध्यमिक शाला जर्जर और भवनविहीन नहीं होंगे।

अतः उन्होने प्रत्येक जर्जर और भवन विहीन शासकीय प्राथमिक और माध्यमिक शालाओं के लिए नये भवन निर्माण करने की बात कहीं और जर्जर एवं भवन विहीन शालाआंे की सूची उपलब्ध कराने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए।बैठक में कलेक्टर वसंत ने जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु 18 वर्ष व 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के नागरिकों तथा 15 से 18 वर्ष के आयु के बच्चों और बूस्टर डोज लगवाने वाले नागरिकों के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होने कहा कि 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर शत् प्रतिशत टीकाकरण वाले दो शासकीय और दो अशासकीय शालाओं को सम्मानित किया जाएगा। इन शालाओं को मुख्य अतिथि द्वारा सम्मानित किया जाएगा। बैठक में उन्होने कहा कि राज्य शासन के निर्देशानुसार खरीफ विपणन वर्ष 2021-2022 हेतु जिले में पंजीकृत किसानों से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का कार्य किया जा रहा है।  उन्होने कहा कि जिले में 04 लाख 10 हजार मीट्रिक टन धान खरीदी का अनुमानित लक्ष्य निर्धारित है। इनमें से अब तक 02 लाख 80 हजार मीट्रिक टन धान की खरीदी की जा चुकी है। उन्होने कहा कि धान खरीदी कार्य में किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होनी चाहिए। उन्होने धान खरीदी का कार्य सुव्यवस्थित रूप से करने के निर्देश दिये। इस अवसर पर उन्होने  बारदानो की उपलब्धता और परिवहन व्यवस्था के संबंध में जानकारी प्राप्त की और आवश्यक निर्देश दिये। बैठक में उन्होने पशु पालक और मत्स्य पालक किसानों के लिए जारी किसान क्रेडिट कार्ड के संबंध में भी जानकारी प्राप्त की। इसी तरह उन्होने बैगा जनजाति किसानों के चिन्हांकन और उन्हे किसान क्रेडिट कार्ड जारी करने के संबंध में की गई कार्यो के संबंध में जानकारी प्राप्त की और कृषि विभाग के उपसंचालक को आवश्यक निर्देश दिये।

Share This: