Trending Nowशहर एवं राज्य

CM भूपेश सुबह चावड़ी पहुंचे: मजदूरों-सफाईकर्मियों को मिठाई खिलाकर की नए साल की शुरुआत, कंबल बांटे

  • महिला श्रमिकों की अब 20 हजार रुपए प्रसूति सहायता

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने साल 2022 के पहले दिन की शुरुआत मजदूरों के साथ की है। मुख्यमंत्री सुबह-सुबह रायपुर के गांधी मैदान स्थित चावड़ी पहुंचे। यहां उन्होंने मजदूरों को मिठाई खिलाकर नए साल की शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री साल के पहले दिन की शुरुआत चावड़ी में मजदूरों के साथ ही करते हैं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मजदूरों और सफाई कर्मियों से मुलाकात के दौरान उनको कंबल और मिठाई का पैकेट भेंट किया। उन्होंने चावड़ी के भोजनालय में भोजन कर रहे मजदूरों से भी बात की। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि यहां चावड़ी में लाेगाें को भरपेट भोजन मिल रहा है। स्वच्छता कर्मियों की मेहनत से हमें पुरस्कार मिल रहा है। इन्हें बधाई।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें हमारे बुजुर्गों, हमारे पुरोधा, महापुरुषों के सपनों को साकार करना ही मेरा नए साल का संकल्प है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल श्रमिक महिलाओं के लिए बड़ी राहत की घोषणा की। उन्होंने कहा कि भगिनी प्रसूति सहायता योजना में सहायता राशि 10 हजार से बढ़ाकर 20 हजार रुपए की जाएगी। यह योजना भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मंडल की ओर से संचालित की जाती है।

महिला सुरक्षा के लिए अभिव्यक्ति एप लांच

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रायपुर पुलिस परेड मैदान पहुंचे। यहां उन्होंने पुलिस कर्मियों के साथ नव वर्ष मिलन समारोह में भाग लिया। इस दौरान उन्होंने महिला सुरक्षा के लिए बने “अभिव्यक्ति एप’ को लांच किया। इस एप में SOS बटन दबाते ही डायल 112 की टीम संबंधित महिला तक पहुंच जाएगी। इसके जरिए महिलाएं आपातकालन मदद मांग सकती हैं। बिना थाने गए शिकायत दर्ज करा सकती हैं और सुरक्षा के संबंध में पुलिस को सुझाव भी दे सकती हैं। इस एप पर पिछले एक साल से काम चल रहा था।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, छत्तीसगढ़ में किसान और जवान दोनों की जय-जय हो रही है। छत्तीसगढ़ पुलिस ने आम लोगों का विश्वास हासिल किया है। कालीचरण की गिरफ्तारी के लिए पुलिस बधाई की पात्र है। हमारे जवानों की कुशलता को पूरे देश ने देखा है। मुझे इस बात की प्रसन्नता है, हमने चुनौतियों को स्वीकार किया और सफलता भी प्राप्त किया। चाहे वह बिलासपुर अपहरण हो या भिलाई के अपहरण की बात हो पुलिस ने अपहरणकर्ताओं को उनके मांद में घुसकर पकड़ा।

बिना खून बहाए नक्सलियों का सफाया यही हमारी सोच

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, पहले छत्तीसगढ़ के बारे में चर्चा होती थी कि यह नक्सली दहशत से भरा हुआ है। यह सोच हमने बदली है। सभी का विश्वास जीता है। अब लोग नक्सली नहीं विकास की बात करते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा, अब हम नक्सलियों के कोर सेक्टर में मौजूद हैं। सुकमा का अधिकांश हिस्सा नक्सलियों के कब्जे से मुक्त हो चुका है। इससे उनके हौसले पस्त हुए हैं। विकास की किरण प्रत्येक जगह पहुंच रही है। पुलिस को लाेग दुश्मन नहीं दोस्त मान रहे हैं। बिना खून बहाए नक्सलियों का सफाया हो, प्रदेश तरक्की करे यही हमारी सोच है।

चिल्फी गांव के पारिवारिक आयोजन में

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दोपहर बाद कबीरधाम जिले के चिल्फी गांव पहुंचेंगे। यहां पारिवारिक आयोजन है। यहां भोजन और मुलाकात आदि के बाद मुख्यमंत्री शाम तक रायपुर लौट आएंगे।

Share This: