Trending Nowशहर एवं राज्य

छत्तीसगढ़ : नदी किनारे मिला शिक्षक का शव…3 दिन पहले नदी में कूदकर दे दी थी जान…सुसाइड नोट बरामद…पढ़ें खबर…

बेमेतरा। बेमेतरा जिला मुख्यायल से 25 किमी दूर सिमगा पुल से दो दिन पहले यानी मंगलवार सात सितंबर को शाम पांच बजे एक शिक्षक ने नदी में कूदकर जान दे दी थी।उसका शव तीसरे दिन ग्राम खंडवा में नदी में उतराता मिला।

समगा थाना प्रभारी सुरेश चौहान ने बताया कि गुरुवार को प्रधान पाठक (शिक्षक) सुदर्शन प्रसाद कोसरिया का शव घटनास्थल से पांच किलोमीटर दूर ग्राम खड़वा में नदी किनारे मिला। ग्रामीण सुबह नदी में नहाने हुए थे, जहां उनकी नजर नदी में उतराते शव पर पड़ा। ग्रामीणों ने सिमगा थाने में इसकी सूचना दी। पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेज दिया है। शव की पहचान सुदर्शन प्रसाद कोसरिया के रूप में हुई है। परिजनों को भी सूचित कर दिया गया है। घटना मंगलवार शाम पांच बजे से पुलिस की टीम की मदद से लगातार दो दिनों से रेस्क्यू की जा रही थी। लेकिन उसके बाद भी शिक्षक का शव नहीं मिल पाया था।

तीसरे दिन मिला शव

सिमगा थाना प्रभारी चौहान ने बताया कि मंगलवार शाम को ग्राम सासाहोली (तिल्दा-नेवरा) निवासी सुदर्शन प्रसाद कोसरिया (58) साल ने सिमगा स्थित शिवनाथ नदी के पुराने पुल से नदी में छलांग लगा दी थी। सूचना पर मंगलवार को बेमेतरा पुलिस की मदद से रेस्क्यू टीम द्वारा खोजबीन की गई, लेकिन शिक्षक का शव नहीं मिल पाया था। रात होने पर रेस्क्यू रोक दी गई थी। गुरुवार को शव ग्राम खड़वा में मिला।

सुसाइड नोट छोड़ा था

पुलिस ने बताया कि शिक्षक बेलाड़ी में प्रधान पाठक पदस्थ था। बेमेतरा थाना प्रभारी अवधिया ने बताया कि शिक्षक ने आत्महत्या के पूर्व एक सुसाइड नोट छोड़ा था। हालांकि उसमें आत्महत्या के कारणों का जिक्र नहीं किया है। उसने सुसाइड नोट में लिखा है- मैं हमेशा के लिए जा रहा हूं। किसी को परेशान मत करना। मृतक के दोपहिया वाहन तलाशी लेने पर सुसाइड नोट, डायरी, आधार कार्ड और मृतक की फोटो मिली थी, जिससे पहचान हुई। मामले को लेकर मृतक के परिजनों से भी पूछताछ की जाएगी।

Share This: