chhattisagrhशहर एवं राज्य

CG Tourist Places : गर्मी के मौसम फैमली के साथ में बना रहे हैं घूमने का प्लान, तो छत्तीसगढ़ के इन टूरिस्ट स्पॉट का लें मजा

CG Tourist Places : छत्तीसगढ़ देश का 10वां सबसे बड़ा क्षेत्रफल वाला राज्य है। इस राज्य का निर्माण 1 नवंबर साल 2000 में हुआ था। पहले छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश का ही हिस्सा था, जिसे अलग कर एक नए राज्य का गठन किया गया। छत्तीसगढ़ में प्राकृतिक संसाधनों से भरपूर होने के साथ-साथ यह प्रदेश पर्यटन स्थलों से भी संपन्न है। आज के इस लेख में हम आपको छत्तीसगढ़ के पर्यटन स्थलों के बारे में बताएंगे जहां आप इस गर्मी की छुट्टियों में फैमिली के साथ घूमने का प्लान बना सकते हैं।

भोरमदेव (Bhoramdeo Temple)

Visit Bhoramdeo Temple Chhattisgarh To See Incredible History - Amar Ujala  Hindi News Live - ये है भारत का दूसरा खजुराहो, जहां सबसे भव्य वास्तुकला के  नमूने मिलेंगे

खजुराहो के नाम से प्रसिद्ध यह भोरमदेव मंदिर कबीरधाम (कवर्धा) जिले से 16 किलोमीटर की दूरी पर चौरग्राम में स्थित है। इस मंदिर के दिवारों पर काम मुद्राओं का कलात्मक चित्रण किया गया है। भोरमदेव मंदिर को खजुराहो के नाम से भी जाना जाता है। इस भोरमदेव अभ्यारण में विभिन्न जंगली जानवरों को विचरण करते हुए देख सकते हैं। हर साल यहां राम नवमी के पर्व पर भव्य मेले का आयोजन किया जाता है।

मैनपाट (Mainpat)

Ambikapur Tourism: आइए, मुस्कुराइए मैनपाट में, हर मौसम देता है यहां सुकून,  प्राकृतिक सौंदर्य का ले आनंद - Ambikapur Tourism: know places to visit in  summer season

मैनपाट जिसे छत्तीसगढ़ के मिनी शिमला के नाम से जाना जाता है। यह प्रसिद्ध स्थल सरगुजा जिला में स्थित है। मुख्य रूप से यह मिनी शिमला सांस्कृतिक, सामाजिक एवं धार्मिक पर्यटन स्थलके रूप में प्रसिद्ध है। मैनपाट के इस क्षेत्र में बॉक्साइट की अच्छी मात्रा पाई जाती है। मैनपाट छत्तीसगढ़ के सबसे अधिक ठंडा क्षेत्र होने के कारण इसे मिनी शिमला के नाम से जाना जाता है। गर्मियों के अलावा अन्य अवसरों पर देश-विदेश के पर्यटक यहां घूमने आते हैं।

लक्ष्मण मंदिर (Sirpur Laxman Mandir)

लक्ष्मण मंदिर, सिरपुर, छत्तीसगढ़ - Kids Portal For Parents

महासमुंद जिले के सिरपुर में स्थित यह प्राचीन मंदिर 1500 साल से वासटा रानी के प्रेम की निशानी है। लाल ईटों से बने इस मंदिर को रानी के मौन प्रेम के गवाह के रूप में जाना जाता है। यह मंदिर हिंदू धर्म में भगवान विष्णु को समर्पित है। इस मंदिर के अंदर भगवान लक्ष्मण की मूर्ति है। राजा हर्षगुप्त की स्मृति में महाशिवगुप्त बालार्जुन के शासनकाल के दौरान 735-40 ईस्वी में नागर शैली में इस मंदिर का निर्माण हुआ था। इसे छत्तीसगढ़ के प्रमुख पर्यटन स्थल में से एक माना जाता है जहां हर साल हजारों पर्यटक घूमने आते हैं।

गंगरेल बांध (Gangrel Bandh Dhamtari)

Gangrel Dam, Dhamtari, Chhattisgarh

धमतरी जिले में महानदी स्थित गंगरेल बांध राज्य का सबसे बड़ा बांध है। इसे मिनी गोवा के नाम से भी जाना जाता है। राज्य प्रशासन ने इसे मिनी गोवा के तर्ज पर बनाया है। यह जेट स्कीइंग, वाटर सर्फिंग, वाटर स्कीइंग, स्कूबा डाइविंग, सेलिंग और काइट सर्फिंग जैसे वाटर स्पोर्ट्स के लिए पर्यटकों के बीच फेमस है। गंगरेल बांध छत्तीसगढ़ के बेस्ट टूरिस्ट प्लेस में से एक है, जो कि राजधानी रायपुर से 80 कि.मी दूरी पर स्थित है।

 

Share This: