Trending Nowशहर एवं राज्य

BREAKING : पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्या के दोषी सुथेन थिराजा की मौत

 

BREAKING: Death of Suthen Thiraja, convicted of murdering former Prime Minister Rajiv Gandhi.

चेन्नई। देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के मामले में दोषी संथन उर्फ सुथेन थिराजा की मौत हो गई। उसने बुधवार कोचेन्नई केराजीव गांधी सरकारी अस्पतालमें अंतिम सांस ली। अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि सुबह 7:50 बजे संथन ने अंतिमसांस ली। वो लिवर फेलियर के साथ क्रिप्टोजेनिक सिरोसिस से पीड़ित था। सूत्रों के मुताबिक, उसे 27 जनवरी को इलाज के लिएअस्पताल में एडमिट कराया गया था।

CPR से सांसें लौट आईं, लेकिन

राजीव गांधी सरकारी अस्पताल के डीन थेरानिराजन ने कहा, संथन को बुधवार सुबह करीब 4 बजे कार्डियक अरेस्ट हुआ, लेकिनसीपीआर प्रक्रिया के बाद उसकी सांसें फिर से लौट आई थी और उसे ऑक्सीजन दिया गया और वेंटिलेटर पर भी रखा गया था।हालांकि, संथन पर इलाज का कोई असर नहीं हुआ और आज सुबह 7.50 बजे उसकी मौत हो गई।

संथन की पूर्व की तस्वीर, श्रीलंका भेजा जायेगा शव

उन्होंने कहा, ‘पोस्टमार्टम कराया जाएगाशव को श्रीलंका भेजने के लिए कानूनी व्यवस्थाएं की जा रही हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, संथन को गंभीर हालत में राजीव गांधी सरकारी जनरल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। संथन (55) को तिरुचि के महात्मा गांधीमेमोरियल सरकारी अस्पताल से यहां रेफर किया गया था।

सुप्रीम कोर्ट ने छह दोषियों को किया था रिहा 11 नवंबर 2022 को सुप्रीम कोर्ट ने राजीव गांधी हत्याकांड में उम्रकैद की सजा काट रहेछह दोषियों को रिहा करने का आदेश दिया था। कोर्ट के आदेश के अगले दिन संथन, नलिनी, श्रीहरन, रॉबर्ड पायस, जयकुमार औररविचंद्रन को 32 साल बाद जेल से रिहा किया गया था।

श्रीलंका का होने के चलते रखा गया सेल में

इस रिहाई के दौरान एक पेंच फंसा था। नलिनी और रविचंद्रन को अपने परिवार के पास मिलने की इजाजत दी गई थी, लेकिन बाकीचार को त्रीची सेंट्रल जेल के स्पेशल कैंप में रखा गया था। ऐसा इसलिए था क्योंकि यह चारों श्रीलंका के नागरिक थे।

संथन ने सेल से लिखा था एक खत

उस वक्त संथन ने त्रीची जेल के स्पेशल कैंप में मौजूद अपने सेल से खुला पत्र लिखा था। लेटर में संथन ने लिखा था कि वो वह धूप तकनहीं देख सकता। अपने पत्र के माध्यम से उसने विश्व के तमिलों से आवाज उठाने की अपील की थी। जिससे वो अपने देश लौट सके।

देश जाने की तैयारी थी, मगर

चेन्नई में विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण कार्यालय (FRRO) ने पिछले शुक्रवार को एक आदेश जारी किया था। जिसमें संथन उर्फसुथेनथिराजा को श्रीलंका जाने की परमिशन दी थी, लेकिन हालत गंभीर होने के वजह से वो अपने देश नहीं जा सका था।

Share This: