Trending Nowशहर एवं राज्य

BIG NEWS : CJI एनवी रमण का कोर्ट में आज आखिरी दिन, रो पड़े सीनियर एडवोकेट, कहा …

CJI NV Raman’s last day in court today, senior advocate cried, said…

नई दिल्ली। देश के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमण के कार्यकाल का आज आखिरी दिन है। इस मौके पर उनकी विदाई पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मुख्य न्यायाधीश एनवी रमण के विदाई समारोह के मौके पर वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे इस दौरान बेहद भावुक हो गए। दवे ने कहा कि अपने काम को पूरी दृढता और इच्छाशक्ति के साथ अंजाम देने के लिए मुख्य न्यायाधीश एनवी रमण को नागरिकों के जज के रूप में याद किया जाएगा।

मुख्य न्यायाधीश के कार्यकाल का आखिरी दिन होने के कारण आज उनके मामलों की सुनवाई को लाइव दिखाया गया। कार्यकाल के आखिरी दिन मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ को 5 अहम मामलों में फैसला सुनाना था। इसमें ‘फ्रीबीज’, 2007 गोरखपुर दंगे, कर्नाटक माइनिंग, राजस्थान माइनिंग लीजिंग और बैंकरप्सी केस शामिल थे।

मुख्य न्यायधीश एनवी रमण की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि ‘फ्रीबीज’ मुद्दे पर विस्तृत सुनवाई की जरूरी है। इस मामले को उन्होंने तीन जजों की बेंच को भेज दिया है। 2007 गोरखपुर दंगा मामले में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में  यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ पर मुकदमा चलाने की अनुमति देने से मना कर दिया। कर्नाटक माइनिंग केस में सर्वोच्च न्यायालय ने  कर्नाटक के 3 जिलों में लौह अयस्क उत्पादन सीमा बढ़ा दी। सुप्रीम कोर्ट ने चित्रदुर्ग और तुमकुरु जिलों के लिए वार्षिक लौह अयस्क उत्पादन सीमा 7 MMT से बढ़ाकर 15 MMT कर दी। वहीं, बेल्लारी के लिए लिमिट 28 एमएमटी से 35 एमएमटी कर दी।

एनवी रमण को अदालती व्यवस्था में सुधार के लिए जाना जाएगा। अपने एक साल 4 महीने के कार्यकाल में एनवी रमण ने अदालतों में जजों की कमी को दूर करने का प्रयास किया। उनके कार्यकाल के दौरान सुप्रीम कोर्ट में 11 जजों की नियुक्ति की गई, जिनमें महिला जज बीवी नागरत्ना भी शामिल हैं। एनवी रमण के कार्यकाल में 15 उच्च न्यायलयों के मुख्य न्यायाधीश भी नियुक्त हुए हैं। अपने कार्यकाल के दौरान एनवी रमनण ने 225 न्यायिक अफसरों और उच्च न्यायलयों  के जजों की नियुक्ति की सिफारिश की। एनवी रमण को उनकी मुखरता के लिए भी जाना जाता है। जस्टिस यू यू ललित देश के नए मुख्य न्यायधीश  होंगे।

Share This: