Trending Nowशहर एवं राज्य

रेलवे स्टेशन होंगे प्लास्टिक मुक्ति, यात्रियों को नाश्ता दोना-पत्तल और टेराकोटा के बर्तनों परोसा जाएगा भोजन

रायपुर। देश को प्लास्टिक से मुक्ति करने की तैयारी शुरू हो चुकी है। अब दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के प्रमुख स्टेशनों में भी यात्रियों को प्लास्टिक में चाय- नाश्ता या फिर भोजन नहीं परोसा जाएगा। इसके लिए रेलवे ने नया आदेश जारी किया है, जिसके तहत पैक खाना व नाश्ते के लिए स्टेशनों में दोना-पत्तल, कुल्हड़ और टेराकोटा के बर्तनों का उपयोग किया जाएगा। जल्द ही स्टेशनों में यह पहल शुरू होने जा रही है। बता दे, भारतीय रेलवे ने 400 स्टेशनों में पर्यावरण संरक्षण और पारंपरिक खानपान व शैली और स्थानीय लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए अनूठी पहल की है। इसके तहत बिलासपुर जोन ने ऐसे 25 स्टेशनों का चयन किया गया है, जिसमें रायपुर के छह और नागपुर के सात स्टेशन शामिल हैं। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के साथ अन्य जोन को इसी तरह स्टेशनों को चिन्हित करने के लिए कहा गया है।ट्रेनों और रेलवे स्टेशनों में आईआरसीटीसी खान से संबंधित सभी कार्य आईआरसीटीसी के जरिए होता है। रेलवे के आदेश के बाद अब प्लास्टिक के जगह ऐसे चीजों को उपयोग में लाया जाएगा, जिससे पर्यावरण दूषित ना हो। आईआरसीटीसी के अधिकारियों का कहना है, हम स्थानीय लोगाें को पहले प्राथमिकता देंगे। छत्तीसगढ़ में माहुल पत्ते से दोना व पत्तल बनाया जाता है। इसका उपयोग भोजन और नाश्ता परोसने के लिए होता है। इसी तरह साउथ के होटलों में केले की पत्ती, बनारस में बरगद व कहटल के ताजा पत्ते से नाश्ता देने का चलन है। इन प्राकृतिक चीजों से न तो पर्यावरण को नुकसान है और न मवेशियों की जान को खतरा है। इससे पर्यावरण को नुकसान नहीं होगा। साथ ही स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा। आइआरसीटीसी की ओर से पर्यावरण संरक्षण के साथ स्थानीय लोगों को रोजगार सेे जोड़ने नई योजना बनाई गई है।स्टेशन में इस वक्त नाश्ता और पैक किया हुआ खाना यात्रियों को प्लास्टिक में परोसा जाता है। जानकारी मुताबिक आइआइसीटीसी जल्द ही स्थानीय लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए टेंडर निकला सकता है, जिससे कुल्हड़ और टेराकोटा के बर्तनों उपयोग में लाया जाएगा। रायपुर मंडल में रायपुर, दुर्ग, भाटापारा, तिल्दा, बिल्हा व बालोद में यह सुविधा होगी। इसी तरह बिलासपुर रेल मंडल में बिलासपुर, रायगढ़, चांपा, कोरबा, अंबिकापुर, अनूपपुर, शहडोल, पेंड्रारोड, उमरिया, करगीरोड, ब्रजराजनगर व उसलापुर और नागपुर रेल मंडल से राजनांदगांव, डोंगरगढ़, गोंदिया, भंडारा रोड, इतवारी, छिंदवाड़ा व बालाघाट का नाम शामिल है।

 

Share This:

Leave a Response

%d bloggers like this: