Trending Nowशहर एवं राज्य

CG BREAKING : उद्योगपति नवीन जिंदल को जान से मारने की धमकी, जिंदगी बचाने के लिए दिए सिर्फ 48 घंटे ..

CG BREAKING: Threat to kill industrialist Naveen Jindal, given only 48 hours to save his life ..

रायगढ़। छत्‍तीसगढ़ के सबसे बड़े उद्योगपति नवीन जिंदल को सेंट्रल जेल के एक कैदी ने डाक के माध्यम से धमकी भरा पत्र भेजा है। 5 मिलियन ब्रिटिश पाउंड यानी 50 करोड़ रुपये 48 घंटे में नहीं देने पर जान से मारने का धमकी भरा खत मिलने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। इस पत्र से रायगढ़ समेत छत्तीसगढ़ पुलिस महकमे में हलचल मचाकर रख दिया है। कोतरा रोड पुलिस ने आरोपित के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया है।

कैदी ने पत्र भेजकर नवीन जिंदल को दी धमकी –

जानकारी के मुताबिक जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड के चेयरमैन नवीन जिंदल के नाम जेएसपीएल पतरापाली में विगत 18 जनवरी को डाक के जरिए एक लिफाफा पहुंचा। जेएसपीएल के महाप्रबंधक सुधीर राय ने 23 जनवरी को लिफाफे को खोलकर उसका लेख पढ़ा तो उनके होश उड़ हो गए।

दरअसल, खत में उद्योगपति नवीन जिंदल को संबोधित करते हुए असभ्य और अपमानजनक भाषा में गाली-गलौज लिखा था। वहीं, यह भी चेतावनी लिखा है कि अगर 48 घंटे के अंदर 5 मिलियन ब्रिटिश पाउंड नहीं मिला तो उनको जान से मार दिया जाएगा। ऐसे में हड़कंप मच गया है।

बिलासपुर सेंट्रल जेल का कैदी है धमकी देने वाला शख्‍स –

उद्योगपति नवीन जिंदल को 50 करोड़ रुपये नहीं मिलने के बदले मारने की धमकी भरा खत भेजने वाले ने अपना नाम बिलासपुर सेंट्रल जेल के कैदी नंबर 4563-97 आई. जुनार राजेन्द्र नगर बिलासपुर निवासी बताया है। लिफाफा के पीछे जितेंद्र कुमार जैन द्वितीय अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश जांजगीर-चांपा 9 जनवरी 2013 लिखा है। साथ ही हिंदी में कम्प्यूटर टाइपिंग प्रति परीक्षण वास्ते मुकेश कुमार द्वारा शंकरलाल अधिवक्ता लिखे की छायाप्रति है जो लाल रंग के डाट पेन से क्रास कर काटा गया है।

छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा उद्योग समूह है जिंदल –

जिंदल छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा उद्योग समूह है। प्रदेश में जिंदल समूह ने हजारों करोड़ रुपए का निवेश स्टील, पावर, माइनिंग, सीमेंट उद्योगों की स्थापना और संचालन किया हुआ है, जिससे हजारों लोगों को रोजगार के अवसर सुलभ हुए लिहाजा इस खत को जेएसपीएल प्रबंधन ने बेहद संजीदगी से लेते हुए इसकी शिकायत कोतरा रोड थाने में कराई है। फिलहाल, जेएसपीएल के महाप्रबंधक सुधीर रॉय की रिपोर्ट पर पुलिस भादंवि की धारा 386, 506 के तहत आपराधिक प्रकरण दर्ज कर जांच पड़ताल में जुटी है।

Share This:
%d bloggers like this: