Input your search keywords and press Enter.

पशुपालन विभाग कोरिया में कृषक भ्रमण योजना के नाम पर भारी फर्जीवाड़ा


बैकुण्ठपुर | व्यवसायिक मानसिकता के साथ पशुओं से उचित उत्पादन के लिए पशुपालकों को पशु पालन एवं प्रबंधन की सही जानकारी एवं पशुपालन की नवीन पद्धतियों से अवगत कराने तथा कृषकों को पशुपालन में रुचि और उत्साह बढ़ाने के उद्देश्य से शासन द्वारा कृषक कौशल विकास भ्रमण योजना चलाया जा रहा है।लेकिन इस योजना में शासन की आंख में धूल झोंक कर मनेन्द्रगढ़ विकासखंड में पशु चिकित्सा अधिकारी ने कृषको को भ्रमण के नाम पर फर्जी बिल लगाकर भारी फर्जीवाड़ा किया है।

सूचना के अधिकार से मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2017 में खंड पशुचिकित्सा अधिकारी डॉ विनीत भारद्वाज की अगुवाई में मनेन्द्रगढ़ से कृषको का दल 15 मई 2017 को भ्रमण पर निकला था। भ्रमण पर निकलने के पूर्व डॉ भारद्वाज ने मनेन्द्रगढ़ के विजय मेडिकल एजेंसी से फर्स्ट एड के नाम पर 2406 रुपये का दवा क्रय किया, उक्त दवा का कम्प्यूटर कृत बिल होने के वावजूद भी तारीख को पेन से सुधार कर शासन के आंख में धूल झोंकने का काम किया है।

कोरिया जिले के मनेन्द्रगढ़ विकासखंड के कृषक राज्य से बाहर भ्रमण के लिए 15 मई को दो वाहन में सवार होकर अनूपपुर पहुुचंने के बाद आगे की यात्रा के लिए ट्रेेेन से निकल जाते हैं फिर दूसरे दिन 16 मई को मनेंद्रगढ़ में ही कृषकों को भोजन कराने का बिल लगाया गया है जो सवालो के घेरे में है। कृषक भ्रमण की जो जानकारी खंड पशु चिकित्सा अधिकारी ने शासन को दिया है उसमे स्पष्ट रूप से 15 मई 2017 से 21 मई 2017 तक राज्य के बाहर भ्रमण करना बताया।फिर दूसरे ही दिन जिले के होटल में किसानों को खाना खिलाने के बिल से स्पष्ट होता है की शासन की इस महत्वाकांक्षी योजना पर कृषको का हक मार कर पशुपालन विभाग के अधिकारी फर्जी बिलों के सहारे भ्रष्टाचार कर जेब भरने में मस्त है। पशुपालन विभाग कोरिया के लिए यह कोई नई बात नही है, इसके पूर्व में भी मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना अंतर्गत हुए मुर्गीपालन प्रशिक्षण में अधिकारियों के साठगांठ से नियम विरुद्ध भुगतान सहित फर्जी बिल लगाकर भारी भ्रष्टाचार किया गया है।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *