Input your search keywords and press Enter.

शादी के बाद प्रेमी ने कर दी हत्या, पहचान छिपाने लाश को पेट्रोल से जलाया, साथी समेत गिरफ्तार

रायपुर। प्रेमिका को शादी के बाद भगा कर धोखे से हत्या करने वाले व्यक्ति और उसके साथी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। मामला खरोरा थाना क्षेत्र का है। आरोपियों ने महिला की पहचान छिपाने के लिए लाश को पेट्रोल से जला दिया था। पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल चाकू, बाइक के अलावा महिला के जेवर जब्त किया है।
एक जून को थाना प्रभारी खरोरा को मोबाईल से सूचना प्राप्त हुई कि ग्राम मोहरेंगा विजयबांधा खार के पास एक अज्ञात महिला का शव अधजली अवस्था में पड़ी हुई है। जिसके बाद थाना प्रभारी द्वारा घटना स्थल पहुंचकर उपस्थित लोगों से पूछताछ किया गया। पूछताछ पर ग्राम मोहरेंगा विजयबांधा के सरपंच छगन वर्मा के द्वारा बताया गया कि 1 जून को लगभग साढ़े 11 बजे खबर मिली कि विजयबांधा खार के पास एक महिला का शव पड़ा है। जिसे उसने देखा कि महिला अधजली उल्टी अवस्था में पड़ा हुआ एवं शरीर के कुछ हिस्सों को किसी जानवर द्वारा खाया गया हैं तथा प्रतीत होता हैं कि किसी अज्ञात व्यक्ति के द्वारा महिला की हत्या कर साक्ष्य छूपाने के लिए शव को जला दिया गया है। थाना प्रभारी खरोरा एवं सायबर सेल आरोपी की पतासाजी जुट गई। चूंकि शव की शिनाख्त नहीं हो पाई थी अतः टीम द्वारा घटना स्थल का बारिकी से अवलोकन कर घटना स्थल के फोटो को विभिन्न सोशल साईट में पहचान हेतु वायरल किया गया साथ ही सरहदी जिलो को संदेश के माध्यम से गुम महिला के संबंध में जानकारी देने हेतु संदेश प्रेषित किया गया। इसी दौरान अज्ञात शव का जिला महासमुंद में गुम इंसान महिला दुर्गेश्वरी साहू के रूप शिनाख्त हुई। टीम द्वारा तकनीकी शाखा एवं मुखबीर की मदद से यह जानकारी प्राप्त हुई कि मृतिका का धर्मेन्द्र साहू से विगत 3 वर्षो से प्रेम संबंध रहा है। संदेह के आधार पर धर्मेन्द्र को पकड़कर कड़ाई से पूछताछ किया गया जिस पर आरोपी ने उक्त कृत्य को करना स्वीकार किया। पूछताछ पर आरोपी के द्वारा बताया गया कि 18 अप्रैल को मृतिका की शादी मोहन्दी जिला महासमुंद में हुआ था। दुर्गेश्वरी के मई में वापस मायके आने पर आरोपी धमेन्द्र के द्वारा उसे अपने साथ भगा ले जाने के लिए राजी किया गया। जिस पर दुर्गेश्वरी की सहमति पर मौका पाकर अपने दोस्त रामगुलाल के साथ मिलकर मृतिका को भगाकर अपने रिश्तेदार के घर कुछ दिनों के लिए छोड़ दिया। कुछ दिनों के बाद धर्मेन्द्र दुर्गेश्वरी को लेकर अपने घर गया । पारिवारिक विवाद के कारण उसके और दुर्गेश्वरी के बीच झगड़े होने लगे जिस पर आरोपी ने दुर्गेश्वरी को अपने रास्ते से हटाने की योजना बनाई और अपने योजना में मित्र रामगुलाल को भी शामिल किया। सुनियोजित योजना के अनुसार आरोपी अपने मित्र के साथ दुर्गेश्वरी को घुमाने के बहाने खरोरा के जंगल में ले गया। जहां उसने उसकी हत्या कर दी। साक्ष्य छिपाने के लिए से शव को पेट्रोल से जला दिया तथा हत्या में प्रयुक्त हथियार को पास के तालाब में फेंक दिया। पुलिस ने घटना में प्रयुक्त चाकू, मोटरसायकल एवं सोने चांदी के जेवरात बरामद किया गया। आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *