Input your search keywords and press Enter.

बुजुर्गों की मदद के लिए पीएचक्यू में विशेष प्रकोष्ठ- हेल्पलाइन शुरू , डीजीपी ने सभी एसपी को लिखा पत्र

रायपुर| राज्य सरकार ने वरिष्ठ नागरिकों की मदद के लिए पुलिसमुख्यालय नया रायपुर में विशेष प्रकोष्ठ (सीनियर सिटीजन सेल) बनाया है। इस प्रकोष्ठ का टोल फ्री नम्बर 1800-180-1253 और हेल्प लाइन नम्बर 0771-2511253 है। पुलिस महानिदेशक श्री ए.एन .उपाध्याय ने प्रदेश के सभी पुलिस अधीक्षकों को परिपत्र जारी कर वरिष्ठ नागरिकों की मदद करने के निर्देश दिए है। पुलिस महानिदेशक द्वारा जारी परिपत्र में कहा गया है कि बुजुर्गों की सेवा ईश्वर की सेवा है। पड़ोसी वाच प्रोग्राम के तहत पुलिस अधिकारी अपने अपने क्षेत्र में बुजुर्गों से मिलकर उनका कुशल क्षेम पूछेंगे और उनकी मदद के लिए हर संभव प्रयास करेंगे।
छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा समाज सेवी संस्था हेल्पेज इंडिया के सहयोग से समाज में एकाकी जीवन जी रहे गरीब  और उपेक्षित बुजुर्गों को राहत और सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा यह पहल की गई है।  परिपत्र में कहा गया है कि राज्य के प्रत्येक थाने में फैमली काउंसिलिंग तथा सीनियर सिटीजन हेल्प डेस्क की स्थापना की जाए।
क्षेत्र के प्रभारी पुलिस अधिकारी हर 15 दिन में बुजुर्गों से मुलाकात करके और समय-समय पर सार्वजनिक स्थानों बगीचों में बैठक करके उनकी समस्याओं की जानकारी लें और उनके निराकरण के लिए हर संभव प्रयास करें। संयुक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2030 में वरिष्ठ नागरिकों और युवाओं की संख्या लगभग बराबर हो जाएगी। इस दृष्टि से यह पहल काफी महत्वपूर्ण साबित होगी। उल्लेखनीय है कि समाज कल्याण मंत्री श्रीमती रमशीला साहू की अध्यक्षता में राज्य शासन द्वारा गठित वरिष्ठ नागरिकों की राज्य परिषद की कल आयोजित पहली बैठक में बुजुर्गों की समस्याओं के निराकरण के लिए पुलिस मुख्यालय में बनाए गए विशेष प्रकोष्ठ के काम-काज के बारे में विचार विमर्श किया गया। वरिष्ठ नागरिकों की सहायता के लिए पुलिस महानिदेशक द्वारा पुलिस अधीक्षकों को जारी परिपत्र के सभी बिन्दुओं का और भी अधिक गंभीरता से पालन करने के निर्देश बैठक में दिए गए।
परिपत्र में यह भी कहा गया है कि प्रत्येक थाने में पेंशन प्राप्त करने वाले बुजुर्गों का रजिस्टर संधारित किया जाए। यदि थानों में वरिष्ठ नागरिकों के संबंध में असंज्ञेय अपराध की सूचना मिलती है, तो पुलिस अधिकारी हेल्पेज इंडिया को सूचित कर उनके समन्वय से आवश्यक कार्रवाई करें। पुलिस, वरिष्ठ नागरिकों से संबंधित  न्यायालय में लंबित मामलों को सूचीबद्ध कर प्रकरणों के निराकरण तक उन्हें आवश्यक सहयोग प्रदान करे। परिपत्र में यह निर्देश भी दिए गए हैं कि यदि वरिष्ठ नागरिकों का बयान लेने की जरूरत पड़ती है तो पुलिस अधिकारी उनके घर जाकर बयान दर्ज करें। वरिष्ठ नागरिकों को सड़क पर किसी प्रकार की समस्या आने पर यातायात व्यवस्था में तैनात पुलिस कर्मी उनकी सहायता करें। पुलिस महानिदेशक ने सभी पुलिस अधीक्षकों को परिपत्र के सभी बिन्दुओं पर सुनिश्चित कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
पुलिस अधिकारी, सड़क किनारे, रेल्वे स्टेशन, बस स्टैण्ड, एवं अन्य सार्वजनिक स्थानों में भीख मांगते पाए जाने पर इन बुजुर्गों से कारण जानकर उन्हें सहयोग करते हुए परिवार के साथ मिलाने का भरसक प्रयास करें। इसी प्रकार भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 125 के अनुसार माता पिता के भरण पोषण की जवाबदारी उनके बच्चों पर होती है अतः बुजुर्गों की उपेक्षा करने वाले व्यक्ति के विरूद्ध थाने में शिकायत प्राप्त होने पर न्यायालय में परिवाद दाखिल करने हेतु बुजुर्गों को पुलिस अधिकारी सहायता प्रदान करें। इसके साथ ही पुलिस अधिकारी, माता-पिता एवं वरिष्ठ नागरिक भरण पोषण अधिनियम 2007 के तहत वरिष्ठ नागरिकों को भरण-पोषण के लिए अनुविभागीय दंडाधिकारी, राजस्व के न्यायालय में कार्यरत ट्रिब्यूनल में आवेदन करने में सहायता प्रदान करें।     पुलिस मुख्यालय नया रायपुर में बनाए गए सीनियर सिटीजन सेल का टोल-फ्री नम्बर 1800-180-1253 है तथा हेल्पलाइन नम्बर 0771-2511253 है। इस सेल में बुजुर्ग अपनी समस्याओं के संबंध में शिकायत दर्ज करा सकते हैं।





Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *